What are the advantages and disadvantages of eating Kharbuja Fruit? (In Hindi)




 

Kharbuja Fruit गर्मी बढने के साथ साथ बाज़ार में भी जगह जगह दिखाई देने लगता है देश के कुछ राज्यों उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, बिहार, मध्य प्रदेश की रेतीली भूमि में खरबूजे की खेती बहुतायत से होती है।

नदी के किनारे रेत में भी खरबूजों की खूब उत्पत्ति होती है। जलवायु और भूमि के कारण खरबूजों के रंग, आकार और स्वाद में परिवर्तन हो सकता है।

Advertisement

खरबूजे की कई किस्में बहुत स्वादिष्ट और पौष्टिक होती है। खरबूजा के बीज भी कम लाभदायक नहीं होते वो भी अपने अंदर बहुत से औषधीय गुण समेटे हैं

गर्मी के इस मौसम में अपने शरीर में पानी की कमी को दूर करने के लिए Kharbuja Fruit का सेवन एक बेहतर विकल्प है।

यह फल न केवल आपकी प्यास बुझाता है, बल्कि शरीर में पानी की उचित मात्रा को भी हमेशा बनाए रखते हैं।

पोषण की दृष्टि से Kharbuja Fruit में खनिज लवण और विटामिन भले ही कम मात्रा में पाए जाते हैं, लेकिन इस फल का 95 प्रतिशत से अधिक भाग पानी होता है।

इनके खाने से गर्मी में हमारी प्यास बुझती है और शरीर में पानी की कमी उत्पन्न नहीं हो पाती। इनसे तरह-तरह के स्क्वैश, शरबत, जूस, जेली व जैम तैयार किए जाते हैं।

सलाद, आइसक्रीम और मिल्क शेक में भी इसे मिलाकर खाया जाता है। अक्सर मिठाइयों में बादाम और पिस्ते के स्थान पर खरबूजा  के छिलके उतरे बीज का उपयोग किया जाता है।

खरबूजे का उपयोग एक्जिमा जैसी बीमारी के लिए बहुत लाभकारी है। इसके बीज में प्रोटीन और तेल काफी मात्रा में होती है।

खरबूजे की सभी प्रजातियां सारी दुनिया में गर्मियों में ही होती हैं, चूंकि यह गर्मियों का फल है। अतः गर्मियों का मौसम जब तापमान 38 से 50 डिग्री सेल्सियस के बीच हो तब खाना लाभप्रद है।

100 ग्राम खरबूजे की मात्रा के आधार पर पाये जाने वाले तत्व :–

  1. प्रोर्टिन-0.3 ग्राम,
  2. कैल्शियम-32 मिग्रा.,
  3. मैग्नेशियम-31 मिग्रा.,
  4. पोटेशियम-341 मिग्रा.,
  5. क्लोंरीन-14 मिग्रा.,
  6. सोडियम-104.6 मिग्रा.,
  7. सल्फर-32 मिग्रा.
खरबूजे का शरीर में क्षारीय प्रभाव होता है। अतः यह खून के PH व अन्य अंगों के द्रवों को बनाये रखता है। खरबूजा प्रोर्टिन व विटामिन्स वाला पदार्थ है। इसे दिन में कभी भी व कैसे भी खाया जा सकता है।
 

Benefits of Eating Cantaloupe (खरबूजा) fruit 

  1. खरबूजे के सूखे छिलके को पानी में उबालकर, छानकर उसमें शक्कर या मिश्री मिलाकर रोजाना दो बार पीने से गुर्दो का शूल नष्ट होता है।
  2. खरबूजा खाने वालों को दिल की बीमारियां और कैंसर होने की आशंका कम रहती है।
  3. कब्ज को दूर करने के लिए खरबूजे के छिलके और बीज अलग करके गूदे के छोटे-छोटे टुकड़े काटकर, उसमें सेंधा नमक और काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर खाएं। बहुत ही आराम मिलेगा।
  4. प्रतिदिन खरबूजा खाने वाले अपने वजन को भी घटा सकते हैं।
  5. खरबूजे में मौजूद द्रव से शरीर को ठंडक तो मिलती ही है, हृदय में जलन जैसी शिकायत भी दूर हो जाती हैं।
  6. खरबूजे की जड़ को पानी के साथ पीसकर, पानी में मिलाकर, छानकर पीने से कुछ सप्ताह में मूत्राशय की पथरी नष्ट होकर निकल जाती है।
  7. किडनी को स्वस्थ्य रखने के लिए आप नियमित रूप से खरबूजे का सेवन कीजिए। (Read More :- All you need to know about this diet to reduce belly fat )
  8. खरबूजे में मौजूद पोटेशियम आपके तनाव को दूर करता है और आपको उर्जा प्रदान करता है।
  9. खरबूजे में एंटी ऑक्सीडेंट गुण होते हैं। इसके नियमित सेवन से त्वचा जवां बनी रहती है।
  10. गर्मी के इस मौसम में अपने शरीर से पानी की कमी को दूर करने के लिए खरबूजे का सेवन एक बेहतर विकल्प है। यह एक्जिमा में भी बहुत लाभकारी होता है। इसके बीज में प्रोटीन और तेल काफी मात्रा में होता है। पुरानी खाज में खरबूजे का रस लाभदायक है। इसमें विटामिन सी पाया जाता है। खरबूजे के सेवन से पेट की जलन शांत होती है। खरबूजे से कब्ज व एसिडिटी की समस्या दूर हो जाती है।
  11. खरबूजे में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं। साथ ही, पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी व विटामिन ए पाया जाता है। इसीलिए इसके नियमित सेवन से त्वचा जवां बनी रहती है। (Read More :- एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants) शरीर को निरोगी बनाता है )
  12. खरबूजे में आर्गेनिक पिगमेंट केरोटीनाइड पाया जाता है, जो कैंसर से बचाने के साथ ही किसी भी तरह के कैंसर की संभावना को भी कम कर देता है।
  13. खरबूजे में एडेनोसीन नामक एंटीकोएगुलेंट पाया जाता है, जो ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करता है और खून का थक्का नहीं जमने देता है। इसीलिए इसके नियमित सेवन से दिल से संबंधित बीमारियां दूर ही रहती हैं।
  14. खरबूजा कब्ज की समस्या दूर करता है। अगर आप पाचन की समस्या से जूझ रहे हैं, तो खरबूजा खाइए। खरबूजे में मौजूद पानी की मात्रा भोजन के पाचन में सहायक होती है। इसमें पाए जाने वाले मिनरल्स पेट से जुड़ी समस्याओं को दूर कर पाचन प्रक्रिया दुरुस्त कर देते हैं।
  15. स्किन में कनेक्टिव टिशू पाए जाते हैं। खरबूजे में पाया जाने वाले कोलाजन प्रोटीन इन कनेक्टिव टिशू में कोशिका की संरचना को बनाए रखता है। कोलाजन से जख्म भी जल्दी ठीक होते हैं और त्वचा को मजबूती मिलती है। अगर आप लगातार खरबूजा खाएंगे तो चेहरा चमकने लगेगा।
  16. खूरबूजे में डाइयुरेटिक (मूत्रवर्धक) क्षमता काफी अच्छी होती है। इस कारण इससे किडनी की बीमारियां ठीक होती हैं और यह एक्जिमा को कम करता है। अगर खरबूजे में नींबू मिलाकर इसका सेवन किया जाए तो इससे गठिया की बीमारी भी ठीक हो सकती है।
  17. Kharbuja Fruit में विटामिन बी पाया जाता है। यह शरीर में ऊर्जा के निर्माण में सहायक होता है। शुगर और कार्बोहाइड्रेट को संसाधित करने में यह ऊर्जा शरीर के लिए आवश्यक होती है।
  18. जो लोग वजन कम करना चाहते हैं, उन्हें गर्मी में रोज खरबूजे का सेवन करना चाहिए। इसमें काफी कम मात्रा में सोडियम पाया जाता है। साथ ही, यह फैट और कोलेस्ट्रोल से भी मुक्त होता है। इसमें कम मात्रा में कैलोरी होती है। एक कप खरबूजे में सिर्फ 48 कैलोरी ऊर्जा होती है। इसीलिए यह बढ़ते वजन को नियंत्रित करने में काफी मददगार होता है।
  19. खरबूजे में विटामिन ए बहुत अधिक मात्रा में पाया जाता है। साथ ही, इसमें बीटा-केरोटीन भी पाया जाता है। इसीलिए इसके नियमित सेवन से आंखें स्वस्थ रहती हैं और आंखों से जुड़ा कोई रोग परेशान नहीं करता है। (Read More :- विटामिन ए शरीर के लिए क्यों जरुरी है)
  20. खरबूजे में काफी मात्रा में पोटैशियम मौजूद होता है। पोटेशियम दिल को सामान्य रूप से धड़कने में मदद करता है, जिससे मस्तिष्क में पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचती है और तनाव से भी मुक्ति मिलती है।
  21. डायबिटीज के रोगियों के लिए Kharbuja Fruit बहुत फायदेमंद होता है। माना जाता है कि जो डायबिटीज रोगी गर्मी में रोज एक गिलास खरबूजे का जूस लेते हैं, उनका कोलेस्ट्राल हमेशा कंट्रोल में रहता है।
  22. खरबूजे में ग्लूकोज उच्च क्लालिटी का होने के कारण शीघ्र ही पचता है। जब खरबूजे को किसी फल, शक्कर या दूध के साथ मिलाकर खाया जाता है जो खरबूजे की क्रियाशीलता को कम करता है। साफ ,स्वच्छ, ठण्डा व पका हुआ फल उर्जा से भरपूर होता है। गर्मियों के मौसम में इसका भरपूर प्रयोग शीतलता व ताजगी देता है।
  23. खरबूजे किडनी के रोगियों के लिए बहुत लाभदायक होते हैं। Kharbuja Fruit शरीर में डाइयुरेटिक क्षमता को बढ़ाता है। इस कारण इससे किडनी की बीमारियां ठीक होती हैं और यह एकजिमा को कम करता है। अगर खरबूजे में नींबू मिलाकर इसका सेवन किया जाए तो इससे गठिया की बीमारी भी ठीक हो सकती है।
  24. Kharbuja Fruit गर्मियों में होने वाली कई बीमारियों को शरीर से दूर रखता है। इस कारण यह कई रोगों का नाशक है। खरबूजे में पाये जाने वाला कैल्शियम पोटेशियम व सोडियम दूध पिलाने वाली मात्राओं में दूध की बढ़ोतरी करता है। खरबूजे का सल्फर व कैरोटिन रक्त कोशिकाओं को फैलाता है,जिस कारण रक्तचाप कम होता है।

Benefits of Kharbuja Fruit seeds

  1. प्रोटीन की उच्च मात्रा :- खरबूजे के बीज में उच्च मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है। ये मात्रा 3.6 प्रतिशत है। इतनी ही प्रोटीन की मात्रा सोया में भी पाई जाती है। इसलिए खरबूजे के बीज को खाना गर्मियों में बहुत फायदेमंद होता है। ये आपके शरीर की प्रोटीन की आवश्यकता को पूरा करते हैं।
  2. विटामिन से भरपूर :- गर्मियों के दूसरे फलों से तुलना करने पर मालूम चलता है कि खरबूजे में अधिक विटामिन ए, सी और ई होते हैं। खरबूजे के साथ-साथ उसके बीज के अंदर भी ये तीनों विटामिन काफी उच्च मात्रा में पाए जाते हैं। इस तरह से यदि आप खरबूजे का सेवन करते हैं तो आपकी आंखों का स्वास्थ्य बहुत अच्छा रहेगा क्योंकि ये विटामिन आंखों के लिए बहुत अच्छे माने जाते हैं।

  3. डायबिटीज में फायदा :- अगर आप या आपके घर का कोई सदस्य डायबिटीज की समस्या का सामना कर रहा है तो खरबूजा खाने के बाद आपको उसके बीज को सुखाकर जरूर रख लेना चाहिए। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि खरबूजे के बीज टाइप 2 डायबिटीज में बहुत फायदा पहुंचाते हैं। अगर नियमित रूप से इन्हें खाया जाएगा तो इस बीमारी को होने से रोका जा सकता है।Read More :- डायबिटीज (मधुमेह क्या है) कितनी तरह की होती है

  4. दिल की सेहत का साथी :- दिल को दुरुस्त रखने में ओमेगा-3 फैटी एसिड की काफी अहम भूमिका होती है। ओमेगा-3 फैटी एसिड शाकाहारी लोगों को मिलना काफी मुश्किल होता है क्योंकि मछली के अलावा ये काफी कम चीजों में पाया जाता है। लेकिन अगर आप शाकाहारी हैं और ये पोषक तत्व पाना चाहते हैं तो आप खरबूजे के बीज भी खा सकते हैं। जी हां, खरबूजे के बीज में ओमेगा-3 फैटी एसिड पाया जाता है। ये पोषक तत्व आपके दिल का खयाल रखता है।

  5. मोटापा कम करने में मददगार :- अगर आप अपना मोटापा कम करना चाहते हैं, तो खरबूजे के बीज इसके लिए आदर्श जरिया हो सकता है। इसमें काफी कम मात्रा में सोडियम पाया जाता है। साथ ही यह फैट और कोलेस्ट्रोल से भी मुक्त होता है। वहीं इससे काफी कम कैलोरी मिलती है।

  6. पाचन के लिए बहुत अच्छा :- खरबूजे के बीज के सेवन से शौच की समस्या भी दूर होती है। अगर आप पाचन की समस्या से जूझ रहे हैं, तो खरबूजे के बीज खाइए। इससे शौच की समस्या दूर हो जाएगी। इसमें पाए जाने वाले मिनरल्स पेट की एसीडीटी को खत्म करते हैं, जिससे पाचन प्रक्रिया दुरुस्त रहती है।

  7. खरबूजे के बीज को खाने के तरीके :- खरबूजे के बीज को मेवे की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है। आप इसे हलवे या मिठाई में डाल सकते हैं। खरबूजे का बीज ऐसे भी खाया जा सकता है। इसके अलावा अपनी सलाद में, सब्जी में भी आप आसानी से खरबूजे के बीज को मिलाकर उसे खा सकते हैं।

 

Harm caused by eating Kharbuja Fruit

1. खरबूजा खाने के बाद तुरंत पानी नहीं पीना चाहिए। पानी पीने से वमन और हैजे की आशंका रहती है।

2. खरबूजा सुबह खाली पेट नहीं खाना चाहिए। खाली पेट खरबूजा खाने से उदर में पित्त विकारों की उत्पत्ति होती है।

3. गर्म प्रकृति वाले स्त्री-पुरूषों को खरबूजे के अधिक सेवन करने से नेत्रों के विकार तथा शोथ की उत्पत्ति होती है।

4. हैजे के प्रकोप में खरबूजों का सेवन नहीं करना चाहिए।

5. अधिक खांसी और जुकाम से पीड़ित रहने वालों को खरबूजे का सेवन कम मात्रा में करना चाहिए।

6. कफ विकृति के रोगियों को भी खरबूजे का सेवन नहीं करना चाहिए।

7. अस्थमा रोगियों, शरीर में शोथ, आमवात से पीड़ित स्त्री-पुरूषों को भी खरबूजा हानि पहुंचाता है।

कुछ आजमाए हुए नुस्खे :- 

  • सिर का दर्द – खरबूजे के बीजों को गाय के घी व मिश्री में मिला लें । और इसे बर्फी की तरह जमाकर सुबह शाम लगभग 50-50 ग्राम की मात्रा में सेवन करें । इसके बाद गाय के दूध में गाय का घी मिलाकर पीएं । इससे सिर दर्द ठीक होता है ।
  • पथरी – 1 चम्मच खरबूजे का छीला हुआ बीज, 15 दाने बड़ी इलायची तथा 2 चम्मच मिश्री के साथ पीस लें । और इसे 1 कप पानी में मिलाकर प्रतिदिन सुबह शाम पीएं । इससे गुर्दे की पथरी गल जाती है ।
  • नाक बंद होना – जिनकी नाक अधिक गर्मियों में सूख जाती है । वो रोजाना 1 खरबूजा 3 माह तक खाएं ।

Article Source :- http://hindi.speakingtree.in/http://www.healthcarefriend.in/

%d bloggers like this: