हल्दी के फायदे असाधारण हैं (Turmeric has Exceptional Advantages)

हल्दी के फायदे

हल्दी के फायदे हम हजारों सालों से उठाते आ रहे हैं घर में कोई भी मांगलिक कार्यक्रम हो या धार्मिक अनुष्ठान कोई विवाह समारोह या कोई भोज हल्दी का प्रयोग आपको हर जगह देखने को मिलेगा फिर वो चाहे किसी भी रूप में हो चाहे पीसी हुई हल्दी हो या हल्दी की गाँठ

Advertisement

ये बातें तो हुई किसी भी समारोह से सम्बंधित अब यदि हल्दी के फायदे को अपने शरीर से जोड़ कर देखें तो मैंने तो कम से कम कही नहीं सुना की हल्दी के फायदे ना हो कर नुक्सान हुआ हो ये हो सकता है की किसी व्यक्ति को यदि कोई बीमारी है और उस बीमारी के साथ कोई और रोफ भी है इसलिये हल्दी के फायदे न मिल रहे हों लेकिन ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है

कभी कभी तो मुझे भी ये सोचना पड़ता है की हल्दी के फायदे में ऐसा क्या है जो सदियों बाद भी हल्दी की महत्ता उतनी ही है, जितनी पहले हुआ करती थी। देश के कई राज्यों जैसे आंध्र-प्रदेश, तमिलनाडु और बंगाल, जो अपेक्षाकृत भारतीय संस्कृति से अधिक जुड़े हुए हैं, वहां हल्दी को और भी ज्यादा पवित्र माना जाता है।

क्या हल्दी के फायदे को इतनी प्रमुखता देना मात्र एक धार्मिक अंधविश्वास की वजह से है या फिर हल्दी के गुणों के पीछे कोई वैज्ञानिक कारण भी है? भारतीय परिवारों में हल्दी को पवित्र समझा जाता है, लेकिन हल्दी के औषधीय गुणों को समझते हुए विज्ञान भी इसकी जरूरतों को स्वीकार करता है।

छोटे स्तर से हल्दी के फायदे की शुरुआत करें तो घर में खाना बनाते समय भोजन में हल्दी को अवश्य डाला जाता है। साधारण मान्यता के अनुसार इससे भोजन का रंग निखर जाता है लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि हल्दी एक एंटी बायोटिक की तरह काम करती है, जो भोजन के भीतर मौजूद किसी भी प्रकार के बैक्टीरिया का सफाया करती है।

हल्दी किस किस बिमारियों में रामबाण की तरह काम करती हैं

यह सिर दर्द, ब्रोंकाइटिस, जुकाम, फेफड़ों में संक्रमण, fibromyalgia, कुष्ठ रोग, बुखार, मासिक धर्म समस्याओं। अन्य उपयोगों में अवसाद, अल्जाइमर रोग, पानी प्रतिधारण, कीड़े, और गुर्दे की समस्याओं के उपचार में शामिल हैं।

हल्दी के फायदे नंबर 1 शरीर में रक्त (Blood) की शुद्धि :- हल्दी आपके खून को साफ करती है और आपकी ऊर्जा को निर्मल बनती है। हल्दी सिर्फ आपके शरीर पर ही काम नहीं करती, बल्कि यह आपकी ऊर्जा को भी प्रभावित करती है। यह शरीर, खून और ऊर्जा तंत्र की सफाई करती है। बाहरी सफाई के लिए अपने नहाने के पानी में एक चुटकी हल्दी डालें और इस पानी से नहाएं। आप पाएंगे कि आपका शरीर दमकने लगेगा।

हल्दी के फायदे नंबर 2 हल्दी में है कैंसर से लड़ने के गुण :- कैंसर कोई बीमारी नहीं है। यह आपके शरीर का आपके खिलाफ काम करना है, आपकी कुछ कोशिकाएं आपके खिलाफ हो जाती हैं। समय-समय पर शरीर की सफाई करने से, कैंसर से बचा जा सकता है।  खाली पेट हल्दी का सेवन, शरीर की सफाई के लिए बहुत प्रभावशाली है। कैंसर हो जाने के बाद हो सकता है कि यह प्रभावशाली न हो। लेकिन हर सुबह सबसे पहले कंचे जितनी बड़ी नीम और हल्दी की गोलियां खाने से शरीर की सफाई अच्छे से हो जाती है और साथ ही कैंसर की कोशिकाएं शरीर से बहार निकल जाती हैं।

हल्दी के फायदे नंबर 3 प्राकृतिक गुणों का खज़ाना :-अमेरिकन केमिकल सोसाइटी के अनुसार हल्दी के भीतर विभिन्न प्रकार के एंटी ऑक्सिडेंट्स होते हैं। इसके अलावा हल्दी के अंदर प्रचुर मात्रा में प्रोटीन, फाइबर, कैल्शियम विटामिन ई, सी और के, सोडियम, जिंक, आयरन के अलावा पोटैशियम, कॉपर भी होता है। हल्दी के अंदर शरीर की बहुत सी समस्याओं से लड़ने का भी प्राकृतिक गुण होता है।

हल्दी के फायदे नंबर 4 मधुमेह और कोलेस्ट्रोल को नियंत्रित करना :- हल्दी का एक बड़ा गुण यह है कि वह किसी भी प्रकार के मधुमेह से लड़ने में, उसे नियंत्रित रखने में कारगर साबित होती है, साथ ही कॉलेस्ट्रॉल कम करने में भी बड़ी भूमिका निभाती है।

हल्दी के फायदे नंबर 5 मस्तिष्क को ताकत देना :- बहुत से लोगों की याद्दाश्त बहुत कमजोर होती है। ऐसे लोग अगर रोजाना हल्दी का सेवन करें तो इससे उनकी याद्दाश्त में काफी सुधार देखा जा सकता है। हल्‍दी दिमाग के लिए बहुत अ‍च्‍छी होती है, अगर आप सुबह के समय गर्म पानी में हल्‍दी मिलाकर पीते हैं यह आपके दिमाग के लिए बहुत अच्‍छा रहता है। भूलने की बीमारी जैसे डिमेंशिया और अल्‍जाइमर को भी इसके नियमित सेवन से कम किया जा सकता है।

हल्दी के फायदे नंबर 6 विष को बाहर निकालना :- यदि आप सारे दिन में 1 गिलास पानी में 1/2 नींबू , 1 चुटकी हल्दी और 2 चम्मच शहद मिलाकर सेवन करते हैं तो यह शरीर के सारे विष को बाहर निकल देगी और और साथ ही फ्री रेडिकल्स से भी लड़ने में मदद करती है

हल्दी के फायदे नंबर 7 मांसपेशियों में लोच लाना :- शहद युक्त हल्के गुनगुने पानी के साथ नीम और हल्दी का सेवन एक शानदार तरीके से कोशिकीय स्तर पर सफाई कर उन्हें खोलने का काम करता है, जिससे वे अपने भीतर अच्छी तरह से ऊर्जा अवशोषित कर सकें। जब आप साधना करते हैं तो कोशिकाओं का यह फैलाव आपकी मांसपेशियों में लोच लाता है। यह लोच धीरे-धीरे आपके तंत्र को एक शक्तिशाली संभावना के रूप में तैयार करता है। जब आप विभिन्न प्रकार के आसन करते हैं तो आपको इसका अहसास होता है कि उस समय आपका शरीर अलग तरह की ऊर्जा से खिल रहा है।

हल्दी के फायदे नंबर 8 सर्दी जुकाम में राहत दिलाये :- जिन लोगों को सर्दी के रोग हैं और हर सुबह उन्हें अपनी नाक बंद मिलती है, उन्हें नीम, काली मिर्च, शहद और हल्दी का सेवन करना चाहिए। इससे उन्हें काफी फायदा होगा।

– 10 से 12 काली मिर्च कूट लें। इन्हें दो चम्मच शहद में रात भर (लगभग 8 से 12 घंटे) भिगोकर रखें। सुबह उठकर इसे खा लें और काली मिर्च को चबा लें। शहद में हल्दी मिला ली जाए तो वह भी अच्छा है। अगर आप सभी डेरी पदार्थों का सेवन बंद कर दें तो हैं तो अपने आप ही बलगम कम होती जाएगी।

हल्दी के फायदे नंबर 9 लीवर की देखरेख  :- हल्‍दी का पानी टॉक्सिक चीजों से आपके लीवर की रक्षा करता है और खराब लीवर सेल्‍स को दोबारा ठीक करने में मदद करता है। इसके अलावा यह पित्ताशय के काम को ठीक करने में मदद करता है, जिससे आपके लीवर की रक्षा होती है

हल्दी के फायदे नंबर 10 शरीर में सूजन और जोड़ों के दर्द से मुक्ति :- हल्दी में करक्यूमिन नामक केमिकल की मौजूदगी के कारण यह दवा के रूप में काम करता है और यह शरीर की सूजनकम करने में सहायक होता है। शरीर में चाहे कितनी भी सूजन क्‍यूं न हो, हल्‍दी वाला पानी पीने से कम हो जाती है। इसके अलावा करक्यूमिन के कारण यह जोड़ों के दर्द और सूजन को दूर करने में दवाइयों से भी ज्‍यादा अच्‍छी तरह से काम करता है|

If you want to purchase Organic Turmeric Powder pls click here

इस धरती से जो भी चीज ली गई है, जिसमें आपका शरीर भी शामिल है, उस हर चीज में एक जड़ता होती है। इसलिए यह जरूरी है कि आप में इतनी सजगता हो कि आप इस जड़ता का स्तर कम से कम रख सकें। आपकी साधना काम कर रही है या नहीं, इसे मापने के लिए हम ये देखते हैं कि आप कितना सोते हैं और कितने सजग हैं। इन दोनो बातों से दरअसल हम यह देखते हैं कि आप कितनी जड़ता अपने भीतर पैदा कर रहे हैं। अगर आपका शरीर अपने भीतर की कोशिकाओं में एक खास स्तर तक की ऊर्जा को प्रवेश करने से रोकता है तो शरीर में जड़ता बढ़ती है। नीम और हल्दी का मिश्रण शरीर की कोशिकीय संरचना को इस तरह से फैलाता है, कि इसके हर दरार और छिद्र में ऊर्जा भर सके। नीम और हल्दी इस काम में भौतिक रूप से मदद करते है, जबकि साधना यही काम सूक्ष्म रूप से करती है।

Read also :- The Most Common PARKINSON’S DISEASE Debate Isn’t As Simple As You May Think

आप साधना के अलावा दूसरे साधनों या तरीकों से भी अपने शरीर में भरपूर ऊर्जा पैदा कर लेते हैं, जैसे एक कप कडक़ कॉफी या निकोटिन आदि। लेकिन ये चीजें आपके तंत्र में कोशिकीय स्तर पर ऊर्जा के प्रवेश की गुंजाइश नहीं बनातीं।इससे तंत्र में ऊर्जा संचित नहीं हो पाती है कि उसे लंबे समय तक शरीर में संभाल कर रखा जा सके और जरुरत पडऩे पर खर्च किया जाए। यह ऊर्जा एकत्र होने की बजाय तुरंत अपनी अभिव्यक्ति का रास्ता ढूंढती है, और फिर यह विध्वंसकारी हो उठती है। यह न सिर्फ आपके शरीर, दिमाग, कामकाज व गतिविधियों पर असर डालती है, बल्कि आपके आसपास की दुनिया को भी प्रभावित करती है। जब हम अपने शरीर में ऊर्जा पैदा करते हैं तब हमारी कोशिश होनी चाहिए कि यह अपने आप ही शरीर से बाहर न निकले, बल्कि हम इसे संचित कर सकें और अपनी पसंद से जरुरत के मुताबिक खर्च कर सकें।

हल्दी के फायदे के साथ साथ इन परिस्थिति में हम को नुक्सान भी हो सकता है

  1. गर्भावस्था – में इसका प्रयोग न करें गर्भ गिरा सकता है क्योकि यह अत्यंत गर्म होती है
  2. पेट विकार – हल्दी कुछ लोगों में पेट की ख़राबी पैदा कर सकती है।
  3. पित्त पथरी या एक पित्त नली में रुकावट हो तो हल्दी का प्रयोग न करें।
  4. मधुमेह: हल्दी में एक रसायन Curcumin, मधुमेह के लोगों में रक्त शर्करा को कम कर सकता है।
  5. बांझपन: हल्दी पुरुषों में टेस्टोस्टेरोन का स्तर कम है,
  6. आयरन की कमी: हल्दी की उच्च मात्रा लोहे iron के अवशोषण को रोक सकता है।
  7. सर्जरी से पहले हल्दी का कम से कम 2 सप्ताह तक उपयोग कर बंद कर दे , अन्यथा रक्त के थक्के को धीमा कर सकता है, फिर काफी ब्लड-इंग होगी

हल्दी के बारे में अब आप जान चुके होंगे की हल्दी हमारे सभी कार्यक्रमों में चाहे वो शरीर की शुधि करनी हो या चेहरा निखारना हो हल्दी के फायदे हमें हर जगह देखने को मिलते हैं लेकिन कुछ जगह या कुछ रोग ऐसे हैं जहाँ हल्दी के फायदे होने की जगह हम को नुक्सान भी हो सकता है इसलिये जब भी आप हल्दी के प्रयोग शुरु करें तो किसी डॉक्टर या वैद्य से सलाह अवश्य ले

हमारे facebook ग्रुप से जुड़ने के लिए यहाँ क्लिक करें :- healthconcious

%d bloggers like this: