Search

भोजन के बारे में आयुर्वेदिक मत जिसका उल्लंघन करने से शरीर बीमार होता है

भोजन के बारे में आयुर्वेदिक मत जिसका उल्लंघन करने से शरीर बीमार होता है
भोजन के प्रकार  प्राचीनकाल में सभी आयुर्वेद के मतानुसार भोजन किया करते थे जिस कारण वो बीमार भी कम होते थे आयुर्वेद का अनुसार भोजन तीन प्रकार का बताया गया है और साथ ही वह छः रसों (मधुर, अम्ल, लवण, कटु, कषाय तथा तिक्त) और पांच भेदों (भक्ष्य, भोज्य, पेय, लेह्य  तथा चोष्य ) वाला बतलाया गया है | उसके भोजन... Read More