Search

Why does the swelling on his face ? Its cause and treatment

चेहरे पर Swelling  क्यों आती है ? इसके कारण 

Swelling आपके शरीर में तभी आती है जब आपके शरीर के काम में कोई रुकावट आ जाती है या कोई अंग ठीक से काम ना कर रहा हो Swelling हमेशा चेहरे घुटने पैर आँखों के निचे छाती पर टांगों में कही भी आ सकती है वैसे तो सभी के शरीर के हिसाब से अलग अलग कारण होते हैं लेकिन जो आमतौर पर देख गया है उनमे शरीर में खून की कमी, किडनी की समस्या, या शरीर में पानी ज्यादा हो जाना है

Swelling आने के कारण क्या है Swelling is due to come ?

जब शरीर में अतिरिक्त पानी इकट्ठा हो जाता है तो शरीर में Swelling आने लगती है, जिसे Edema कहा जाता है। जब यह Swelling घुटनों  पैरों और टांगों में आती है तो उसे Peripheral edema कहते हैं। फेफड़ों की Swelling pulmonary edema और आंखों के पास आने वाली Swelling periorabitala edema कहलाती है। Kidney main infection ki wajeh se bhi sojish aati hai.

loading...

How To Check Kidney Fail or Pass

Urine is an important disease of kidney infection

शरीर के ज्यादातर भागों में दिखायी पड़ने वाली Swelling को Massive edema कहा जाता है। इस स्थिति में मसूड़ों, पेट, चेहरे, स्तन, लसिका ग्रंथि व जोड़ों आदि सभी भागों पर सोजिश आ जाती है। ज्यादा देर तक खड़े रहने या बैठने की वजह से होने वाली Swelling को ऑर्थोस्टेटिक एडिमा कहा जाता है। कभी कभी हल्की Swelling ज्यादातर कोई बड़ी समस्या नहीं होती, लेकिन अधिक समय तक रहने वाली ज्यादा Swelling गंभीर बीमारी का संकेत हो सकती है।

यदि आपको ज्यादा समय तक सूजन रहती हैं तो आपको तुरंत डॉक्टर से मिलना चाहिये 10 दिन से ज्यादा Swelling आपके लिए खतरनाक हो सकती है खास कर ladies को क्योंकि ऐसा Gents के साथ बहुत कम देखने को मिलता है. जो ladies exercise नहीं करती उनके साथ ऐसा होने की पूरी सम्भावना होती है

आज के time सभी को सुबह की सैर हल्का व्यायाम प्राणायाम आदि जरुर करना चाहिये

ये तो हुई Swelling के कारण की बात अब इसका उपाय यदि आप अपने खाने पीने की आदतों को और खाने में क्या खाना है इस बात को अच्छी तरह समझ लें तो आपको कभी एन समस्यों का सामना नहीं करना पडेगा

Swelling से कैसे छुटकारा पायें ? Get rid of Swelling ?

  1. अनानास का रस इस बीमारी में रामबाण दवा है क्योंकि अनानास में vitamin B, Vitamin C, Minerals, व  Bromelain पाया जाता है जो रोगों से लड़ने की ताकत बढ़ाता है, वजन कम करने में मदद करता है,सोजिश कम करता है, मुँह का स्वाद ठीक करता है, हड्डियाँ मजबूत करता और त्वचा को स्वस्थ रखता है।
  2. यदि आप मोटापे का भी शिकार हैं तो आप सबसे पहले अपना वजन कम करें. उसका सबसे आसान तरीका है अपने खाने में  Green Vegitable, फ्रूट्स , बादाम अखरोट को जरुर शामिल करें ये सोजिश को कम करने में बेहद असरकारक है
  3. Vitamin -D भी  शरीर से अतिरिक्त पानी को बाहर निकालने का काम करता हैं। विटामिन डी के लिए हर रोज़ निकलते सूरज और ढलते सूरज की धुप तो जरुर लें
  4. काली मिर्च में Antimaikrobiel और सोजिश व दर्द को कम करने के गुण पाए जाते हैं। सोजिश कम करने के लिए इसका इस्‍तेमाल कई चीजों के साथ मिलाकर किया जा सकता हैं। जैसे पांच काली मिर्च पीस कर चौथाई चम्मच मक्खन के साथ,  तरबूज के रस में कालीमिर्च का चूर्ण डालकर या फिर सोंठ, कालीमिर्च तथा सौंफ तीनों का चूर्ण दो चम्मच की मात्रा में गुड़ के साथ सेवन करें
  5. आयरन से भरपूर होने के कारण धनिया की पत्तियां एनिमिया को दूर करने में तो मददगार होती ही है। साथ ही अपने Anti Tyhumetik और Anti artharaitisa के गुणों के कारण Swelling कम करने में बहुत मददगार होता है। इससे जोड़ों के दर्द में भी राहत मिलती है। इसके सेवन के लिए धनिया की पत्तियों को पानी में उबाल लें फिर इसको छानकर इसका पानी दिन में दो बार लें  धनिये का उबला पानी पीने से किडनी की सफाई भी हो जाती है
  6. करेला कड़वा होता है लेकिन सेहत के लिए फायदेमंद करेला सोजिश को दूर करने में भी बहुत मददगार होता है।
  7. प्याज़ भी immayuniti को बढाते हैं। साथ ही इनमें सोजिश को कम करने वाले Chemicals पाए जाते हैं जो कि शरीर को Swellingसे बचाते हैं।
  8. साबुत अनाज में बहुत सारा फाइबर हेाता है जिससे खून में Sireaktip protein की मात्रा कम हो जाती है और शरीर की सोजिश कम होने लगती है। साबुत अनाज के तौर पर आप, चावल, बाजरा खा सकते हैं।
  9. टमाटर में Lycopene होता है जो कि फेफड़ों और पूरे शरीर की सोजिश को रोकता है। कच्‍चे टमाटर की जगह पकाया गया टमाटर या फिर सॉस खाने से आपको ज्‍यादा मात्रा में Lycopene मिल सकता है।
  10. चुकंदर  में बहुत सारा Antioxidant पाया जाता है। यह शरीर की सोजिश को कम करता है तथा कैंसर और दिल के रोग से बचाता है। इसमें विटामिन सी और फाइबर होता है
Loading...
loading...

Related posts