Search

Height Increase Through Ayurveda

Height (कद लम्बा करने के आयुर्वेदिक उपचार )

Height हमारे शरीर में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है जिन लोगों की ऊंचाई (Height) में सामान्य रूप से वृद्धि नही होती है वो लोग जीवन भर निराशा महसूस करते रहते है. क्योंकी छोटे कद के लोगों को समाज में भी बुरी नज़र से देखा जाता है तथा ऐसे लोगो को जीवन में भी कई नुकसान का सामना करना पड़ता है जब ऐसा व्यक्ति जिसका कद छोटा है किसी भी फील्ड में आपना करियर बनाना चाहता है तब उसको उस समय बहुत दिक्कत आती है और तब वह बहुत अधिक निराश हो जाता है जब उसको यह पता चलता है कि वह १ इंच या २ इंच कद छोटा होने के कारण अपना करियर उस फील्ड में नहीं बना सकता जिसके लिए उसने बचपन से सपना देखा था

दूसरी ओर लम्बे लोग आसानी से ध्यान आकर्षित करने और लोगो कि भीड़ में सबसे अलग दिखाई पड़ते है . महिलाओं को पुरुषों के लंबा होने में सुरक्षा, शक्ति और पुरुषत्व का प्रतीक दिखाई पड़ता हैं. लम्बे लोगों को अधिक सम्मान दिया जाता है. इसके अलावा हर करियर में लंबा उम्मीदवारों को पसंद करते हैं. एक अच्छा उदाहरण सैन्य है. हजारों लोग अपने करीयर इस फील्ड से कद कम होने के कारण छोड़ते है . मॉडलिंग एक आकर्षक कैरियर लाइन है जिसमे स्त्री एवं पुरुष दोने ही आपना करियर बनाना चाहते है परन्तु कद(Height) कम होने के कारण वह इस फील्ड से भी वंचित रह जाते है तथा जो लोग छोटे होते हैं उनको समाज में कम सम्मान दिया जाता है और आज कल हर यूवती लम्बे लडको को पसंद करती है तथा लडको में भी लम्बी लड़की को पसंद करने कि प्राथमिकता पाई गयी है

loading...
कुछ  व्यक्ति छोटे (Height)कद वाले होते हैं। उन्हें अपनी लम्बाई (Height) बढ़ाने की चाह तो होती है लेकिन वे किसी प्रकार से अपनी लम्बाई (Height) नहीं बढ़ा पाते हैं। क्योंकि मनुष्य की ऊंचाई(Height)  के साथ उसके व्यक्तित्व का गहरा सम्बन्ध होता है।

छोटा (Height) होने का कारण:-

हमारी रीढ़ की हडि्डयों के छोटे-छोटे 32 टुकड़े होते हैं जिन्हें कशेरुकाएं कहते हैं। ये टुकड़े आपस में एक-दूसरे से जुड़े रहते हैं। इन कशेरुकाओं के बीच में मुलायम तंतुओं के गद्दे होते हैं। इन्हें उपास्थि कहते हैं। ये कशेरुकाएं रबड़ की तरह लचीली होती हैं। किसी कारण से जब इनमें रक्त (खून) संचारण नहीं होता है तो इनका विकास रुक जाता है जिसके कारण व्यक्ति का कद(Height) छोटा रह जाता है।

जब किसी व्यक्ति की रीढ़ पर गलत तरीके से बोझ पड़ने लगता है तो शरीर की हडि्डयों की झिल्लियों का लोच सिकुड़ जाता है, लेकिन आराम मिलने से या सही तरीके से बोझ पड़ने से वे अपने आप ही बढ़ जाती हैं। यदि रीढ़ की हड्डी कमान की तरह झुकाई न जाए और उठते-बैठते समय या फिर चलते-सोते समय सीधी रखी जाए तो मात्र कुछ ही दिनों में शरीर का कद बढ़ाया जा सकता है।

(Height) बढ़ाने के लिए प्राकृतिक चिकित्सा से उपचार:-

    • ऊंचाई(Height) बढ़ाने के लिए सबसे पहले व्यक्ति को ऐसे भोजन का सेवन करना चाहिए, जो शरीर के खून को शुद्ध बना सके और शरीर के दूषित द्रव्य को पेशाब के द्वारा बाहर कर सके। इसलिए रोगी व्यक्ति को अपने भोजन में फल, मेवे, शहद, मट्ठा, दही, दूध, तथा उबली और कच्ची साग-सब्जियों आदि खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए।
    • व्यक्ति को हर समय सीधा तनकर बैठना या खड़ा होना चाहिए। इसके अलावा छाती को आगे को निकालकर तथा गर्दन सीधी रखकर बैठना-उठना चाहिए।
    • कद (Height)लम्बा करने के लिए व्यक्ति को कुर्सी पर बैठते समय पीठ सीधी करके कुर्सी पर बैठना चाहिए या फिर डेस्क या मेज पर झुकते समय पीठ को एक लाइन में सीधा झुकाना चाहिए न कि पीठ के दो हिस्से करके। व्यक्ति को चलते समय पीठ सीधी, कन्धे पीछे की ओर झुके हुए, सीना आगे की ओर निकला हुआ तथा हाथ दीवार की अलार्म वाली घड़ी के पैन्डलूम की तरह झुकाते हुए रहने चाहिए। व्यक्तियों को सोते समय अपनी पीठ और पैर एक सीध में रखने चाहिए। इन सभी सावधानियों का पालन करने पर ही व्यक्ति की लम्बाई बढ़ सकती है।
    • व्यक्तियों का कद (Height)लम्बा करने के लिए कई प्रकार के आसन हैं जिन्हें प्रतिदिन सुबह तथा शाम के समय करने से कुछ ही महीनों में व्यक्ति का कद बढ़ने लगता है। ये आसन तथा यौगिक क्रियाएं इस प्रकार हैं- पश्चिमोत्तानासन, शीर्षासन, भुजंगासन, हलासन, उडि्डयान तथा नौलिक्रिया आदि।
    • लम्बाई(Height) बढ़ाने के लिए व्यक्ति को गहरी श्वास की कसरतें तथा शारीरिक व्यायाम करने चाहिए। जिसके फलस्वरूप ही लम्बाई बढ़ाई जा सकती है।
    • व्यक्ति को लम्बाई (Height)बढ़ाने के लिए सबसे पहले सुबह के समय में किसी खुले स्थान पर सीधे खड़े हो जाना चाहिए। इसके बाद अपने दोनों हाथों को बगल में लटकाते हुए सीधा खड़ा रहना चाहिए। इसके बाद अपनी नाक से सांस अन्दर लेते हुए दोनों हाथों को बगल से धीरे-धीरे ऊपर उठाना चाहिए ताकि वह कन्धों की सीध में आ जाएं। इस अवस्था में व्यक्ति को अपने हाथ सीधे तानकर रखने चाहिए। इस अवस्था में कुछ समय में रहें। इसके बाद अपने हाथों को पीछे की ओर ले जाएं। इसके बाद अपने सिर को थोड़ा पीछे झुका लें और फेफड़ों में थोड़ी हवा और भर लें। व्यक्ति को कुछ समय इस स्थिति में रहना चाहिए। फिर धीरे-धीरे अपनी श्वास को छोड़ना चाहिए। इसके बाद रोगी को पहले की स्थिति में आ जाना चाहिए। इस व्यायाम को प्रतिदिन करने से कुछ ही महीनों में लम्बाई बढ़ने लगती है।
    • लम्बाई (Height)बढ़ाने के लिए व्यक्ति को सुबह तथा शाम के समय में खुली हवा में व्यायाम करना चाहिए। व्यक्ति को सबसे पहले बिल्कुल सीधा खड़ा हो जाना चाहिए। इसके बाद अपने दोनों हाथों को कन्धे की ऊंचाई तक ऊपर उठाना चाहिए और श्वास को अन्दर की ओर खींचना चाहिए जिससे हवा फेफड़े में भर जाती है। इसके बाद कुछ समय के लिए ऐसे ही खड़े रहें और इसके बाद अपने हाथों को धीरे-धीरे ऊपर उठाते हुए पंजों के ऊपर खड़े हो जाएं तथा श्वास भीतर खींचकर फेंफड़ों में हवा भरे। इस स्थिति में व्यक्ति को कुछ समय के लिए रुकना चाहिए और धीरे-धीरे श्वास को छोड़ना चाहिए। इस प्रकार से व्यायाम प्रतिदिन करने से कुछ ही महीनों में लम्बाई बढ़ने लगती है।
    • व्यक्ति को अपनी लम्बाई (Height)बढ़ाने के लिए सबसे पहले सुबह के समय में सीधे खड़े हो जाना चाहिए। इसके बाद अपने सिर को सीधा करके कंधों को थोड़ा पीछे की ओर झुकाना चाहिए और अपने दोनों हाथों की उंगुलियों को मजबूती से आपस में फंसाकर दोनों हथेलियों को सिर के पिछले भाग पर रखना चाहिए। इस अवस्था में व्यक्ति को अपनी गर्दन को कड़ा रखना चाहिए और दोनों हाथों से सिर को बलपूर्वक धीरे-धीरे नीचे की ओर इतना झुकाना चाहिए कि ठोड़ी छाती से जा लगे। इस अवस्था में व्यक्ति को कुछ समय के लिए रुकना चाहिए। इसके बाद सिर को पीछे की ओर धीरे-धीरे जहां तक सम्भव हो उठाएं। इस समय हाथों पर दबाव कम रखना चाहिए। इस प्रकार से प्रतिदिन व्यायाम करने से कुछ ही महीनों में (Height) लम्बाई बढ़ने लगती है।

(Height) कद लंबा करने के आयुर्वेदिक औषधीय उपचार(Ayurvedic Formula for Increase Height)

1- अश्वगंधा,चंद्रसूर दोनो को ही आयुर्वेद में शारीरिक विकास के लिए महत्वपूर्ण जडीबूटी माना गया है।
सामान 1- 20 ग्राम सूखी नागौरी अश्वगंध, हालों या चंद्रसूर lepidium sativum चंद्रसूर  2-30 ग्राम हलंग,हालों या चंद्रसूर ( Chansur, Halim, Haloon, Chandrasur , English Name : Common Cress, Watercress, Garden Cress )जो एक ही चीज के नाम है 3- 20 ग्राम देशी चीनी।

खीर बनाने की विधि- सूखी नागौरी अश्वगंधा को बारीक कूट-पीस लें। चंद्रसूर को साफ़ करके गाय के 250 ग्राम दूध मे हलकी आंच पर पका ले जब प्रैशर कूकर की एक सीटी बज जाए तब उतार कर बारीक किया हुआ अश्वगंधा व चीनी डाल कर ढक कर थोडा सेक लग्वा दें। यह खीर हर रोज रात को सोते समय खाएं व लगातार 45-60 दिन इसतेमाल करके नतीजा खुद देख लें ओर अपना अनुभव हमारे दर्शको के लिए हमारी वेब साईटपर भी पोस्ट कर देना

नुस्खा 2 – काले तिल और अश्वगंधा का यह योग नियमित रूप से सेवन करने पर हाइट बढ़ने लगती है।
सामग्री- 1.अश्वगंधा चूर्ण 20 ग्राम।
2. काले तिल 20 ग्राम।
3. खजूर 10 ग्राम।
4. गाय का घी 5 ग्राम ।

बनाने की विधि- 
1 से 2 ग्राम अश्वगंधा चूर्ण और 1 से 2 ग्राम काले तिल को पीसकर चूर्ण बना लें।
ऐसे करें सेवन- इस चूर्ण को 3 से 5 खजूर में मिलाकर 5 से 20 ग्राम गाय के घी में एक महीने तक खाने से लाभ होता है।

3.नुस्खा- केवल अश्वगंधा का पाउडर लेने से भी कद बढ़ने लगता है।

सामग्री- 
1. नागोरी अश्वगंध
2. चीनी
3. दूध

लम्बाई (Height)कैसे बढ़ाएं बनाने की विधि– थोड़ी सी मात्रा में अश्वगंधा की जड़ लेकर उसका चूर्ण बना लें। इस चूर्ण में बराबर मात्रा में चीनी मिलाकर रख लें।

ऐसे करें सेवन- इस मिश्रण को 2 चम्मच मात्रा में एक गिलास दूध में डालकर पिएं। रात को सोने से पहले 60 दिनों तक इस योग का सेवन करने से शरीर सुडौल बनता है और कद बढ़ जाता है।
परहेज – बजार की बनी वस्तूएं, इमली की व आम्चूर की खटाई, तेज मिर्च मसाले,तली व चट्पटी बाजारी चीजो का सेवन बिलकुल बन्द कर दें। कोई भी खटाई न खाएं।

इन दवाओं के साथ गाय के दूध पीना अनिवार्य है।

जिन लोगों का कद (Height)नहीं बढ़ रहा हो उन्हें रोज ताड़ आसन और भुजंगासन जितना संभव हो जरुर करना चाहिए।
ताड़ आसन करने की विधि- ताड़ आसन करने के लिए सबसे पहले अपने दोनों हाथ ऊपर उठाएं।
ताड़ आसन हाथ उठाकर सांस अंदर लें। अपने पैर के पंजों पर कुछ समय के लिए खड़े हो जाएं। दोनों हाथों को मिलाएं और अपने शरीर को ऊपर की तरफ खीचें। कुछ देर उसी अवस्था में रहें। फिर सांस बाहर छोड़ें और दोनों पैर के पंजों को सामान्य अवस्था में ले आएं। यह क्रिया 10 से 15 बार करें।

भुजंगासन करने की विधि- पेट के बल लेट जाएं। दोनों पैरों को मिलाकर रखिए। सिर जमीन पर, आंखें खुली हुई और दोनों बाजू को कोहनी से मोड़ें। हाथों को कंधों के नीचे रखें। कोहनी बाहर की ओर न हो, बल्कि शरीर के साथ लगाकर रखें। एक ही बार में सांस नहीं भरेंगे, बल्कि आसन करते हुए धीरे-धीरे सांस भरें। धीरे-धीरे सांस लेना शुरू करें और फिर सिर को उठाएं। गर्दन को पीछे की भुजंगासन ओर मोड़ें। पीठ की मांसपेशियों का बल लगाते हुए आप कंधे भी उठाएं। हथेलियों पर थोड़ा दबाव रखते हुए छाती और नाभि तक का भार उठाएं। हर स्थिति में नाभि को जमीन से 30 सेंटीमीटर ही ऊपर उठाना चाहिए। ज़्यादा नहीं, अन्यथा कमर भी उठ जाएगी। इस स्थिति में कोहनी सीधी नहीं होगी। इसके बाद आकाश की ओर देखें। इस अवस्था में सांस रोंके। कमर के निचले भाग पर खिंचाव आएगा, जिसे आप महसूस कर पाएंगे। इस स्थिति में 3-4 सेकंड तक रहें और फिर सामान्य अवस्था में आ जाएं। इसके साथ ही अपने डाइट चार्ट में ज्यादा से ज्यादा फल और मेवे शामिल करें। कद बढ़ने लगेगा।

अगर आप डाईट प्लान बना सकती है तो इन सहायक सप्लीमैन्ट पर भी ध्यान  देकर जल्दी लाभ पा सकती है
खीर
1. कैल्शियम- कैल्शियम शरीर के लिए एक आवश्यक खनिज है। यह हड्डियों को मजबूत बनाता है। कैल्शियम हमें दूध, चीज़, दही आदि में मिलता है। ऊंचा लंबा कद पाने के लिए कैल्शियम बेहद जरूरी है।

2. मिनरल- खनिज हड्डी के ऊतकों का निर्माण करता है। ये हड्डी के विकास और शरीर में रक्त के प्रवाह में सुधार करते हैं। अगर आपको अपनी लंबाई बढ़ानी है तो खनिज से भरपूर तत्वों का इस्तेमाल करें। यह पालक, हरी बीन्स, फलियां, ब्रोकोली, गोभी, कद्दू, गाजर, दाल, मूंगफली, केले, अंगूर और आड़ू में पाया जाता है।

3. विटामिन डी- लंबाई (Height)बढ़ाने के लिए जिस विटामिन की सबसे ज्यादा जरूरत होती है उनमें से एक है व‍िटामिन डी। अच्छी तरह से कैल्शियम को हड्डी में अवशोषित करने के लिए, हड्डी के विकास के लिए और प्रतिरक्षा प्रणाली के बेहतर कार्य करने के लिए आपको विटामिन डी की जरूरत होती है जो मछली, दाल, अंडा, टोफू, सोया मिल्कर, सोया बीन, मशरूम और बादाम आदि में पाया जाता है।

अपील:– प्रिय दोस्तों  यदि आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो या आप हिंदी भाषा को इन्टरनेट पर पोपुलर बनाना चाहते हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस उपचार से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा.

Article Source :- http://ayurvedajadibuti2014.blogspot.in/

Loading...
loading...

Related posts