Search

आक के औषधीय एवं आयुर्वेदिक गुण

आक के औषधीय एवं आयुर्वेदिक गुण
आक (Calotropis gigantea) आक , आकडा , मदार इसे हम शिवजी को चढाते है ; अर्थात ये ज़हरीला होता है . इसलिए इसे निश्चित मात्रा में वैद्य की देख रेख में लेना चाहिए .पर कुछ आसान प्रयोग आप कर सकते है – अगर किसी को चलती गाडी में उलटी आती हो ( motion sickness ) तो यात्रा पर निकलते समय... Read More

ॐ Secrets of AUM

ॐ Secrets of AUM
ॐ कैसे है स्वास्थ्यवर्द्धक और अपनाएं आरोग्य के लिए ओम के उच्चारण का मार्ग… ॐ  ओउम् तीन अक्षरों से बना है। अ उ म् “अ” का अर्थ है उत्पन्न होना, “उ” का तात्पर्य है उठना, उड़ना अर्थात् विकास, “म” का मतलब है मौन हो जाना अर्थात् “ब्रह्मलीन” हो जाना। ओम सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति और पूरी सृष्टि का द्योतक है। इस... Read More

योग का रहस्य (Mystery of Yoga)

योग का रहस्य (Mystery of Yoga)
योग योग शब्द दुनियाभर में अपनी पहचान तो बना चुका है। यह हर काल में बना रहा, सिर्फ इसलिए क्योंकि लंबे अर्से से इंसान की भलाई में जितना योगदान योग का रहा है, उतना किसी का नहीं। आज लाखों लोग इसका अभ्यास कर रहे हैं, लेकिन आखिर इसकी शुरुआत कैसे हुई? क्या कभी आप ने जानने की कोशिश की है कि... Read More

योग विद्या :- Who received the first instruction of Yoga?

योग विद्या :- Who received the first instruction of Yoga?
योग विद्या योग विद्या के मुताबिक 15 हजार साल से भी पहले शिव ने सिद्धि प्राप्त की और हिमालय पर एक प्रचंड और भाव विभोर कर देने वाला नृत्य किया। वे कुछ देर परमानंद में पागलों की तरह नृत्य करते, फिर शांत होकर पूरी तरह से निश्चल (ध्यान्मगन) हो जाते। उनके इस अनोखे अनुभव के बारे में कोई कुछ नहीं... Read More

नंदी अनंत प्रतीक्षा का प्रतीक है

नंदी अनंत प्रतीक्षा का प्रतीक है
नंदी नंदी अनंत प्रतीक्षा का प्रतीक है। भारतीय संस्कृति में इंतजार को सबसे बड़ा गुण माना गया है। जो बस चुपचाप बैठकर इंतजार करना जानता है, वह कुदरती तौर पर ध्यानमग्न हो सकता है। नंदी को ऐसी उम्मीद नहीं है कि शिव कल आ जाएंगे। वह किसी चीज का अंदाजा नहीं लगाता या उम्मीद नहीं करता। वह बस इंतजार करता... Read More

सोमवती अमावस्या और कुटुम्बेश्वर महादेव

सोमवती अमावस्या और कुटुम्बेश्वर महादेव
सोमवती अमावस्या और कुटुम्बेश्वर महादेव सोमवती अमावस्या और कुटुम्बेश्वर महादेव :- साक्षात भगवान शिवजी ने संसार के हित के लिए कहा था कि सोमवती अमावस्या के दिन कुटुम्बेश्वर के दर्शन से कुटुंब की वृद्धि होगी। इस दिव्य लिंग के दर्शन करने से सब पाप दूर होते हैं। रविवार, सोमवार,अष्टमी, चर्तुदशी व सोमवती अमावस्या को क्षिप्रा में स्नान कर जो कुटुम्बेश्वर... Read More

परशुराम महान तपस्वी और योद्धा

परशुराम महान तपस्वी और योद्धा
परशुराम महान तपस्वी और योद्धा हैं। वे सप्त चिरंजीवियों में से एक हैं। परशुराम :- उनका जिक्र रामायण में भी आता है और महाभारत में भी। वे शस्त्र के साथ ही शास्त्र के भी विशेषज्ञ हैं। परशुराम धनुर्विद्या के ज्ञाता हैं लेकिन फरसा उनका प्रिय शस्त्र है। त्रेता युग में जब भगवान श्रीराम ने जनकपुर में आयोजित सीता माता के... Read More