Search

तीज मनाने के पीछे का रहस्य जान कर चौंक जायेंगे आप

तीज मनाने के पीछे का रहस्य जान कर चौंक जायेंगे आप
ये गहन चिंता का विषय है की हिन्दू संस्कार धीरे धीरे विलुप्त होते जा रहे हैं जो तीज त्यौहार हमारे देश में मनाये जाते थे आज हम लोग उनके बारे में कुछ नहीं जानते आस्था, उमंग, सौंदर्य और प्रेम का यह उत्सव शिव-पार्वती के पुनर्मिलन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। चारों तरफ हरियाली होने के कारण इसे हरियाली तीज... Read More

करवा चौथ के व्रत में कही जाने वाली सभी तरह की कथाएं

करवा चौथ के व्रत में कही जाने वाली सभी तरह की कथाएं
करवा चौथ का व्रत रखने वाली महिलाएं जिन कथा-कहानियों को सुनकर अपना व्रत पूरा करती हैं, दोपहर में सभी सुहागन स्त्रियां एक जगह एकत्रित होती हैं, शगुन के गीत आदि गाती हैं। इसके बाद शाम को कथा सुनने के बाद अपनी सासू मां के पैर छूकर आशीर्वाद लेती हैं और उन्हें करवा समेत अनेक उपहार भेंट करती हैं।उनमें से बहु-प्रचलित... Read More

सोमवती अमावस्या: Peepal की परिक्रमा का दिन

सोमवती अमावस्या: Peepal की परिक्रमा का दिन
सोमवती अमावस्या सोमवती अमावस्या का अर्थ ही है सोमवार को पड़ने वाली अमावस्या को सोमवती अमावस्या कहते हैं। सोमवार चन्द्र को समर्पित दिन है। चन्द्र को अध्यात्म में मन का कारक माना गया है। इस दिन अमावस्या अर्थात बिना चन्द्र की अन्धेरी रात के पड़ने का अर्थ ही है कि मन सम्बन्धी दोषों के समाधान के लिये यह उत्तम दिन... Read More

शिव शंकर भोलेनाथ से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

शिव शंकर भोलेनाथ से जुड़े कुछ रोचक तथ्य
शिव (Shiv) कौन हैं? शिव संस्कृत भाषा का शब्द है, जिसका अर्थ है, कल्याणकारी या शुभकारी। यजुर्वेद में शिव को शांतिदाता बताया गया है। ‘शि’ का अर्थ है, पापों का नाश करने वाला, जबकि ‘व’ का अर्थ देने वाला यानी दाता। क्या है शिवलिंग भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग ? शिव की दो काया है। एक वह, जो स्थूल रूप... Read More

शिव पूजा – जानिए किस अन्न के चढ़ावे से कैसी कामना पूरी

शिव पूजा – जानिए किस अन्न के चढ़ावे से कैसी कामना पूरी
शिव पूजा :- Are You Interested To Fulfill Your Dreams And Wish By Lord Shiva. शिव पूजा :- इसी तरह भगवान शिव की प्रसन्नता से मनोरथ पूरे करने के लिए शिव पूजा में कई तरह के अनाज चढ़ाने का महत्व बताया गया है। इसलिए श्रद्धा और आस्था के साथ इस उपाय को भी करना न चूकें। जानिए किस अन्न के चढ़ावे... Read More

त्रयंबक (Shiva’s Third Eye)

त्रयंबक (Shiva’s Third Eye)
त्रयंबक त्रयंबक :- शिव को हमेशा त्रयंबक कहा गया है, क्योंकि उनकी एक तीसरी आंख है। तीसरी आंख का मतलब यह है कि बोध या अनुभव का एक दूसरा आयाम खुल गया है। दो आंखें सिर्फ भौतिक चीजों को देख सकती हैं। अगर तीसरी आंख खुल जाती है, तो इसका मतलब है कि बोध का एक दूसरा आयाम खुल जाता... Read More

भोलेनाथ :- How To Impress Lord Shiv?

भोलेनाथ :- How To Impress Lord Shiv?
भोलेनाथ भोलेनाथ को देवों के देव यानी महादेव भी कहा जाता है। कहते हैं कि शिव आदि और अनंत हैं। शिव ही एक मात्र ऐसे देवता हैं जिनकी लिंग रूप में भी पूजा जाता है। भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए उन्हें अनेक ऐसी चीजें पूजा में अर्पित की जाती हैं जो और किसी देवता को नहीं चढ़ाई जाती। जैसे... Read More

चंद्रमाशिव :- Secret Between Shiv Snake and Moon.

चंद्रमाशिव :- Secret Between Shiv Snake and Moon.
चंद्रमाशिव चंद्रमाशिव हर तस्वीर में, हर मूर्ति में, हर जगह शिव के सिर पर चंद्रमा और गले में सांप दिखाया जाता है। क्या है आखिर शिव का इनसे संबंध ? आइए जानते हैं – चंद्रमाशिव के कई नाम हैं। उनमें एक काफी प्रचलित नाम है सोम या सोमसुंदर। वैसे तो सोम का मतलब चंद्रमा होता है मगर सोम का असली अर्थ... Read More

श्रावण मास में क्या करें और क्या ना करें ?

श्रावण मास में क्या करें और क्या ना करें ?
श्रावण मास भगवान नीलकंठ को इतना प्रिय क्यों है ? श्रावण मास एक ऐसा मास जिसमे हिन्दू धरम का कोई ही मनुष्य ऐसा होगा जो भगवान शिव को ना मानता हो श्रावण मास शिव भक्तों के लिए एक उत्साह लेकर आटा है श्रावण मास का हर दिन एक नहीं सोच और उमंग भरा होता है सारा भारत जय शिव शंकर , जय... Read More

अंधकासुर :- Birth of Architecture

अंधकासुर :- Birth of Architecture
अंधकासुर :- Birth of Architecture अंधकासुर :- लिंग पुराण अनुसार दैत्य हिरण्याक्ष ने कालाग्नि रुद्र के रूप मे परमेश्वर शिव की घोर तपस्या करके उनसे शिवशंकर जैसे एक पुत्र का वरदान मांगा। भगवान शंकर ने वरदान स्वरुप हिरण्याक्ष के घर अंधकासुर के रूप मे जन्म लिया । अंधकासुर बचपन से ही शिव के परम भक्त थे । अंधकासुर ने भगवान... Read More