Search

एटीएम की फ्रेंचाइजी से 50 हजार और डिस्ट्रिब्यूटरशिप से 1 लाख कमायें

loading...

व्हाइट लेवल एटीएम कंपनियों के लिए स्वचालित मार्ग से 100 प्रतिशत प्रत्यक्ष विदेशी निवेश संबंधी केंद्र सरकार के फैसले को चेन्नई की एक कंपनी फाइनेंशियल सॉफ्टवेयर एंड सिस्टम्स प्राइवेट लिमिटेड (एफएसएस) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने स्वागत योग्य कदम बताया, लेकिन यह भी कहा कि इससे व्हाइट लेवल एटीएम कंपनियों की चुनौतियां खत्म नहीं हुई हैं। इस क्षेत्र को सस्ती पूंजी की जरूरत है।

व्हाइट लेवल #ATM संचालक कंपनी दरअसल गैर बैंकिंग कंपनी होती हैं, जो एक कारोबार के रूप में एटीएम मशीनों का संचालन करती है। उनकी आय का मुख्य स्रोत शुल्क और विज्ञापन होते हैं। किसी भी बैंक का उपभोक्ता इस एटीएम की सुविधा ले सकता है।

loading...

गौरतलब है कि एफएसएस (#FSS) एक ब्राउन लेवल #ATM कंपनी भी है। ब्राउन लेवल एटीएम कंपनी किसी बैंक की ओर एटीएम मशीनों का संचालन करती है और उसका स्वामित्व भी रखती है।

देश में ATM स्पेस की बढ़ती मांग ने बिजनेस के लिए नए मौके खोल दिए हैं। ऐसे में अब कंपनियां इसके लिए फ्रेंचाइजी देने के साथ-साथ डिस्ट्रिब्यूटर बनने का मौका दे रही हैं। नए मौकों को देखते हुए अब अगर आपके पास स्पेस नहीं है, तो भी आप डिस्ट्रिब्यूटर बन अच्छी कमाई कर सकते हैं।
ट्रांजैक्शन के आधार पर होती है कमाई
कंपनियां ATM से होने वाले प्रति ट्रांजैक्शन के आधार पर फीस देती हैं। जिससे फ्रेंचाइजी लेकर आसानी से 50 हजार रुपए की कमाई की जा सकती है। इसी तरह डिस्ट्रिब्यूटरशिप लेकर एक लाख रुपए से ज्यादा की कमाई होती है। इसके अलावा इस बिजनेस में आपको इन्वेस्टमेंट के नाम पर करीब 3.25 लाख रुपए खर्च करने होंगे।
क्या है नया मॉडल
आरबीआई (#RBI) ने बैंकों के अलावा प्राइवेट कंपनियों को भी व्हाइट लेवल एटीएम (#White #Level ATM) लगाने की अनुमति दे रखी है। जिसकी वजह से टाटा (Tata) , मुत्थुट ग्रुप (#MuthootGroup) से लेकर कई कंपनियां व्हाइट लेवल एटीएम लगा रही हैं। इंडस्ट्री के अनुसार देश में अभी प्रति 6100 लोगों पर एक एटीएम है। ऐसे में डिमांड को देखते हुए एटीएम की फ्रेंचाइजी (#Franchisees) और डिस्ट्रिब्यूटर (#distributors)बनने का ऑप्शन भी कंपनियां दे रही हैं।
नहीं करना पड़ता ज्यादा काम
ATM खोलने में कई बार आपके मन में आता है, कि आपको ATM मशीन खरीदने से लेकर उसके मेंटनेंस, कैश होल्डिंग आदि का काम करना होगा। फ्रेंचाइजी ऑप्शन में आपको केवल ATM की सिक्योरिटी की जिम्मेदारी लेनी होती है। बाकी सारे काम व्हाइट लेवल एटीएम कंपनी करती है।
3.25 लाख रुपए करना होगा इन्वेस्टमेंट (#Investment)
ATM फ्रेंचाइजी देने वाली कंपनी ATM फ्रेंचाइजी इंडिया 3.25 लाख रुपए का इन्वेस्टमेंट लेती है। इसके बाद जरूरी है कि वर्किंग कैपिटल , कैश होल्डिंग, पहले साल मेंटनेंस का काम, कैश हैंडलिंग आदि का काम व्हाइट लेवल ATM लगाने वाली कंपनी की जिम्मेदारी होती है। ज्यादा डिटेल के लिए आप कंपनी की वेबसाइट से जानकारी ले सकते हैं।
25 से 100 वर्गफुट स्पेस की जरूरत
ATM स्पेस की रिक्वॉयरमेंट आपकी कैटेगरी के आधार पर होती है। इसके तहत शॉप इन शॉप एटीएम के लिए 25-30 वर्गफुट जमीन की जरूरत होती है।
.इसके अलावा अगर आप ऐसा ATM लगाते हैं, जहां पर मल्टीपल सर्विसेज दी जा सके तो 80-100 वर्गफुट स्पेस की जरूरत है। .अगर आप फुल स्पेस में ATM लगाना चाहते हैं, तो 60-80 वर्गफुट स्पेस की जरुरत होगी।
हर रोज 250 ट्रांजैक्शन पर 50 हजार की कमाई
व्हाइट लेवल ATM फ्रेंचाइजी को कंपनियां प्रति ट्रांजैक्शन के आधार पर फीस देती हैं। ऐसे में अगर एटीएम से हर महीने 7000 ट्रांजैक्शन होते हैं, तो उस नेट प्रॉफिट करीब 50 हजार रुपए का होगा।
. इसी तरह हर महीने 5000 ट्रांजैक्शन पर करीब 30 हजार रुपए का नेट प्रॉफिट होगा।
. अगर ATM से हर महीने 12 हजार ट्रांजैक्शन होते हैं, तो आपको महीने में एक लाख रुपए की कमाई हो जाएगी।
विज्ञापन (#Advertisement) से भी कमाई का है मौका
ट्रांजैक्शन से कमाई के अलावा व्हाइट लेवल एटीएम से आप विज्ञापन के जरिए भी कमाई कर सकते हैं..
  1. पहला ATM के साइन बोर्ड पर विज्ञापन दे सकते हैं।
  2. ATM रुम में भी विज्ञापन दे सकते हैं।
  3. एटीएम स्क्रीन पर भी विज्ञापन दे सकते हैं
  4. एटीएम स्लिप पर भी विज्ञापन दे सकते हैं।

Article Source :- http://money.bhaskar.com/news/

Loading...

Related posts