Search

हरी मिर्च (Green Chilli) के आयुर्वेदिक व औषधीय गुण

हरी मिर्च (HARI MIRCH) Sehat ke liye Tikhi yaa Methi

हरी मिर्च प्राकृतिक तरीके से ही रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है, अक्सर हम घर में खाना बनाते या खाते वक्त तीखी चीजों को दूर रखते हैं। हां कभी-कभी कुछ स्पाइसी खाने का मन हो तो बात अलग है, लेकिन क्या आप जानते है कि जो लोग अपने खाने में कम से कम दो हरी मिर्च खाते हैं वे कैंसर जैसी भयानक बीमारी से भी बच सकते हैं। खाने को चटपटा बनाने के लिए हरी और लाल मिर्च का प्रयोग भारत में सालों से होता आ रहा है। लेकिन आयुर्वेद के अनुसार हमारे किचन के हर एक मसाले में कई औषधीय गुण छुपे हुए हैं। हरी मिर्च कई तरह के पोषक तत्वों जैसे- विटामिन ए, बी6, सी, आयरन, कॉपर, पोटेशियम, प्रोटीन और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर होती है। यही नहीं इसमें बीटा कैरोटीन, क्रीप्टोक्सान्थिन, लुटेन -जॅक्सन्थि‍न आदि स्वास्थ्यवर्धक चीजें मौजूद हैं।इनसे कई छोटी-मोटी परेशानियों का इलाज किया जा सकता है।

हरी मिर्च (Green Chilli) के आयुर्वेदिक व औषधीय गुण 

1:- हरी मिर्च के फायदे :- तीखी हरी मिर्च का सेवन सेहत और सौंदर्य दोनों के लिए फायदेमंद होता है। ये साफ त्वचा से लेकर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करता है। रोजाना हरी मिर्च का सेवन करने से सेहत तो दुरुस्‍त रहती है। हरी मिर्च में कैप्सियासिन नामक यौगिक मौजूद होता है जो इसे मसालेदार बनाता है। लेकिन क्‍या आप जानते हैं यह सौंदर्य के लिए भी फायदेमंद होता है, आइए हम आपको बताते हैं।

loading...

2:- एक्ने :– मिर्च खाने से खून साफ होता है और नसों में इसका फ्लो तेजी से होता है, जिससे चेहरे पर पिंपल्‍स की समस्‍या नहीं होती। मिर्च में काफी विटामिन सी और ई पाया जाता है।छोटी-छोटी फुन्सियाँ उठने पर हरी मिर्च का लेप लगाने से फुन्सियाँ बैठ जाती है। खाज-खुजली के लिए मिर्च को तेल मे जलाकर मालिश करने से आराम मिलता है। गर्मी के दिनों में खाने के साथ हरी मिर्च खाएं। खाने के साथ मिर्च खाने से लू नहीं लगती है
3:- त्वचा :– हरी मिर्च या फिर शिमला मिर्च में आपको काफी ज्‍यादा विटामिन सी और एंटीऑक्‍सीडेंट मिल जाएगा। एंटीऑक्‍सीडेंट हमारी त्‍वचा और सेहत के लिये बहुत अच्‍छा माना जाता है। मिर्च खाने से चेहरे पर जल्‍दी झुर्रियां नहीं पड़ेंगी।हरी मिर्च में बहुत सारा विटामिन ई होता है जो कि त्‍वचा के लिये फायदेमंद प्राकृतिक तेल का प्रोडक्‍शन करता है। तो अगर आप तीखा खाना खाती हैं तो आपकी त्‍वचा अपने आप ही अच्‍छी हो जाएगी।

4:- बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन से बचाव :– हरी मिर्च में एंटी बैक्‍टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो कि संक्रमण को दूर रखते हैं। हरी मिर्च को खाने से आपको स्‍किन रोग नहीं होगा।महिलाओं में अक्‍सर आयरन की कमी हो जाती है लेकिन अगर आप हरी मिर्च खाने के साथ रोज खाएंगी तो आपकी यह कमी भी पूरी हो जाएगी।
5:- जवां रहते हैं आप :– हरी मिर्च में फाइटोन्‍यूट्रियंट्स होते हैं जो कि स्‍किन को एक्‍ने, झाइयां और रैश से बचाते हैं। मिर्च का सेवन करने से आप बुढापे के लक्षणों से लड़ सकती हैं। इसका नियमित सेवन करने से आप जवां बन सकती हैं। हरी मिर्च में विटामिन ई होता है, जो कि त्वचा के लिए फायदेमंद है। इसलिए खाने के साथ कच्ची हरी मिर्च चबाने से त्वचा हमेशा जवान बनी रहती है।
6:- वजन घटाता है :– हरी मिर्च में कैलोरीज कम होती है। यह शरीर में अतिरिक्त फैट को बर्न करने में सहायता करती है और वजन पर नियंत्रण रखने में भी सहायक होती है।मोटापे से पीड़ित लोगों में कोलैस्ट्रॉल के स्तरों को कम करने में हरी मिर्चें काफी सहायक होती हैं। हरी मिर्च में मौजूद विटामिन के ओस्टियोपोरोसिस के खतरे को कम करता है।
7:- रक्तचाप और पाचन रखता है दूर :- रक्तचाप को नियंत्रित करने में हरी मिर्च काफी फयदेमंद होती है। मधुमेह होने की स्थिति में भी हरी मिर्च में रक्तचाप का स्तर नियंत्रित रखने के गुण होते हैं। मिर्चों में मुख्य तौर पर विटामिन ए तथा आयरन, कैल्शियम, पोटाशियम, मैंगनीज और मैग्रीशियम की कुछ मात्रा मौजूद होती है।इसमें पोटाशियम भी होता है जो कोशिका तरलों का एक महत्वपूर्ण अंग है। यह हमारी हृदय गति तथा रक्तचाप को नियंत्रित रखने में सहायक होता है।हरी मिर्चें शरीर में से विषैले तत्व बाहर निकालने के लिए जानी जाती हैं। ये डाइटरी फाइबर का एक अच्छा स्रोत हैं। इनसे आंतडिय़ों की गतिविधि को बढिय़ा बनाने में सहायता मिलती है और कब्ज नहीं होती।
8:- मूड हल्‍का करे :- मिर्च खाने से आपके शरीर का ब्‍लड शुगर लेवल बैलेंस हो जाएगा। पर इसका यह मतलब नहीं है कि आप पूरे दिन मिठाई खाएं और उसके बाद मिर्च खाना शुरु कर दें।मिर्च खाने से दिमाग में एंडोर्फिन पैदा होता है जो कि आपका मूड हल्‍का बना कर आपको खुशी प्रदान करता है।

9 :-कैंसर :–  कैंसर से लड़ने और शरीर को सुरक्षित रखने के लिए भी हरी मिर्च फायदेमंद है। इसमें भरपूर मात्रा में एंटी ऑक्सीडेंट्स होते हैं, जो शरीर की आंतरिक सफाई के साथ ही फ्री रेडिकल से बचाकर कैंसर के खतरे को कम करती है। इसके सेवन से  फेफड़ों के कैंसर का खतरा भी कम होता है। अत: धूम्रपान का सेवन करने वालों को हरी मिर्च को अपने भोजन में ज्यादा शामिल करना चाहिए, क्योंकि उन्हें फेफड़ों के कैंसर का खतरा सबसे ज्यादा होता है।  हरी मिर्च पुरूषों में प्रोस्टेट कैंसर के खतरे को कम करती है। वैज्ञानिक द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार हरी मिर्च खाने से प्रोस्टेट की समस्या पूरी तरह समाप्त हो जाती है।

10. आथ्रॉईटिस के मरीजों के लिए भी हरी मिर्च काफी फायदेमंद होती है। इसके अलावा यह शरीर के अंगों में होने वाले दर्द को भी कम करने में सहायक होता है।

11. गर्मी में हरी मिर्च खाने से इसके बीज अगर आपके पेट में हैं तो हैजा का डर नहीं होता है।
12  हरी मिर्च खाने के साथ खाएं। अचार खाएं इसमें विटामिन सी पर्याप्त मात्रा में होता है।

13. -कब्ज से बचाये :- हरी मिर्च शरीर में से विषैले तत्व बाहर निकालने के लिए जानी जाती है। ये डाइटरी फाइबर का एक अच्छा स्त्रोत है। इनसे आंतों की गतिविधि को सही किया जा सकता है और कब्ज नहीं होती है।

14. डायबिटीज को करती है कंट्रोल: हरी मिर्च के नियमित सेवन से शरीर में ब्लड शुगर का स्तर नियंत्रित रहता है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि आप पूरे दिन मिठाई खाएं और उसके बाद मिर्च खाना शुरू कर दें।

15 . मजबूत हडि्डयां- महिलाओं के लिए हरी मिर्च उनका हथियार बन सकती है। हरी मिर्च में भरपूर आयरन होता है जो हडि्डयों को मजबूत करता है और खून भी बढ़ाता है।

लाल मिर्च से कुछ ऐसे ही घरेलू उपचार….

– लाल मिर्च के सेवन से मल-मूत्र में आने वाली समस्याएं दूर हो जाती है।

– लाल मिर्च खाना मोटापा कम करने और भोजन के बाद अधिक कैलोरी जलाने में मददगार हो सकता है।

– लाल मिर्च पर किए गए वैज्ञानिक शोध से पता चला है कि इसमें से तत्व मौजूद हैं जो शरीर में उठने वाले दर्द के निवारण के लिए लाभदायक होती है।

– लाल मिर्च की लुगदी बना लें जिस ओर की आंख लाल हो या दर्द हो उसी पैर के अंगूठे पर व लुगदी का लेप करें, यदि दोनों आंख में हो रही हों तो दोनों में करें- 2 घंटे में आंख ठीक हो जायेगी।

– अशुद्ध पानी से पेट में होने वाली परेशानी है तो लाल मिर्च की चटनी को घी में छोंककर खाने से गंदे पानी का दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है।

– अगर किसी को सांप कांट ले तो मिर्च कड़वी नहीं लगती । मिर्च खिलाने से विष खत्म होगा।

– विच्छू के काटने पर लाल मिर्च का लेप लगायें ठंडक पड़ जायेगी।

– यदि गले में इन्फेंकशन हो गया हो या खांसी हो तो लाल मिर्च की चटनी अवश्य ग्रहण करें।

– आपको जिस तरह पसंद हो वैसे लाल मिर्च खाएं। लाल मिर्च बेसन में डालकर पकोड़े बनाकर खाएं।

अपील:- दोस्तों  यदि आपको  पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार को इसकी जरुरत हो और यदि किसी को इस post से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा.

Article Source :- http://desinushkhe.blogspot.in/

Loading...
loading...

Related posts