Search

विटामिन ए :- SHOCKING secret of Vitamin A

विटामिन ए (Vitamin A)

विटामिन ए (Vitamin A) दो फार्म में पाए जाते हैं: रेटिनॉल और कैरोटीन। विटामिन ए (Vitamin A) आंखों से देखने के लिये अत्यंत आवश्यक होता है। साथ ही यह बीमारी से बचने के काम आता है। यह विटामिन ए (Vitamin A) शरीर में अनेक अंगों जैसे, स्किन, बाल, नाखून, ग्रंथि, दांत, मसूडा और हड्डी को सामान्य रूप में बनाये रखने में मदद करता है।

Vitamins और minrals हमारे शरीर के लिए आवश्यक कुछ जरुरी तत्वों में से होते है और हम उन्हें कई तरह के sources से लेते है जिसमे मुख्यत हमारा भोजन होता है और कुछ खास तरह के भोजन और खाध्य पदार्थ जैसे गाजर ,पालक , पपीता , आम और आलू में साथ ही बीटा केरोटीन की मात्रा भी भरपूर होती है | यह केरोटीन हमारे शरीर में के अंदर से ही हमारी skin को cure करने का काम करता है और बाहर के वातावरण और धूप के द्वारा हमारे शरीर पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों को कम करता है साथ ही धूप के हुए नुकसान को कम करने में भी इसका महत्वपूर्ण योगदान है |

loading...

विटामिन-डी की कमी से शरीर में होने वाले रोग

विटामिन ए (Vitamin A) के उपयोग अच्‍छी सेहत के लिए यह सबसे महत्‍वपूर्ण विटामिन है। यह आंखों की रौशनी को तेज कर के उसकी मासपेशियों को मजबूत बनाता है। आइये जानते हैं इसके उपयोग-

1. यह भ्रूण की नार्मल ग्रोथ और डेवलेप्‍मेंट के लिए बहुत अच्‍छा माना जाता है।

2. त्‍वचा के लिए स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक होता है।

3. रक्त (Blood) में कैल्सियम (Calcium) का स्तर बनाए रखने और हडिडयों के संवर्द्ध के लिए आवश्यक है।

4. हडिडयों, दांत, और ऊतकों के रख-रखाव के लिए आवश्यक है।

5. ऊर्जा पैदा करने के लिए सभी कोशिकाओं को इसकी जरुरत पडती है।

विटामिन ए (Vitamin A) की कमी के लक्षण(Vitamins A deficiency symptoms):-

कान में फोड़ा सूखे बाल सूखी त्‍वचा क्रोनिक डायरिया सर्दी-जुखाम थकान नींद न आना नाइट ब्‍लाइंडनेस निमोनिया प्रजनन में कठिनाई साइनस कमजोर दांत वजन में कमी विटामिन ए (Vitamin A) स्रोत चुकंदर, साग, ब्रोकली, साबुत अनाज, पनीर, गिरीदार फल, बटर, गाजर, मिर्च, डेयरी प्रोडक्‍ट, हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां, अंडा, बींस, राजमा, मीट, आम, सरसों, पपीता, धनिया, चीकू, मटर, कद्दू, लाल मिर्च, सी फूड, शलजम, टमाटर, शकरकंद, तरबूज, मकई के दाने, पीले या नारंगी रंग के फल, कॉड लीवर ऑयल आदि।

विटामिन सी ही संजीवनी बूटी है

विटामिन ए (Vitamin A)  को कैसे  नापना पड़ता है ? (Vitamins A. How does it measure ?)

विटामिन ए (Vitamin A) दो तरह के युनिट से नापा जाता है। इनको बदलने के लिये फोरमुला है –

  • 1 IU = 1 International Unit = 0.3 microgram Retinol Equivalent
  • 1 आई यु = 1 अंतरराष्ट्रीय युनिट = 0.3 माईक्रोग्राम रेटिनोल के बराबर  जहां 1 ग्राम = 1000 माईक्रोग्राम
विटामिन ए (Vitamin A) का “प्रतिदिन जरूरत” उम्र और सेहत के अनुसार  खुराक बदलते रहता है।
  • जन्म से 6 महीने के उम्र के शिशु को करीब 1333 आइ यु या 400 माईक्रोग्राम
  • 6 से 12 महीने के उम्र के शिशु को करीब 1666 आइ यु या 500 माईक्रोग्राम
  • 1 से 3 साल के बच्चे को करीब 1000 आइ यु या 300 माईक्रोग्राम
  • 4 से 8 साल के बच्चे को करीब 1333 आइ यु या 400 माईक्रोग्राम
  • 9 से 13 साल के बच्चे को करीब 2000 आइ यु या 600 माईक्रोग्राम
  • 14 से 30 साल के पुरुष को करीब 3000 आइ यु या 900 माईक्रोग्राम
  • 14 से 30 साल के महिला को करीब 2333 आइ यु या 700 माईक्रोग्राम
  • गर्भ के दौरान करीब 2500 आइ यु या 750 माईक्रोग्राम
  • स्तनपान के दौरान करीब 4000 आइ यु या 1200 माईक्रोग्राम

विटामिन ई से स्वास्थ्य के लाभ और हानियाँ

सावधानी-

अत्याधिक विटामिन ए (Vitamin A) लेने से शरीर पर अनेक दुर्प्रभाव हो सकते हैं जैसे कि सिरदर्द, देखने में दिक्कत, थकावट, दस्त, बाल गिरना, स्किन खराब हो जाना, हड्डी और जोडों में दर्द, कलेजा को नुकसान पहुंचना और लडकियों में असमय मासिक धर्म।

गर्भ के दौरान खास सावधानी – अत्याधिक विटामिन ए (Vitamin A), पेट में पलते बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है।

Article Source :- http://hindi.boldsky.com, http://nirog.info

Loading...
loading...

Related posts