Search

लीची (Lychee) के आयुर्वेदिक और औषधीय गुण

लीची/Lichi

लीची गर्मियों में खाया जाने वाला एक बेहद लाजवाब फलों में से एक है इसका आकर अंडे जैसा होता है और यह नरम होता है इसका बीज काफी बड़ा होता है. भारत में इसकी खेती मुजफ्फरपुर, बिहार और नॉर्थ इंडिया के कई क्षेत्रों में की जाती है, सिर्फ मुजफ्फरपुर में 75 प्रतिशत तक लीची की पैदावार होती है. लीची में पानी की मात्रा भी काफी होती है। लीची हमेशा तरोताज़ा रहने वाले ऊँचे पेड़ों पर लगती है। घनी हरी पत्तियों के बीच गहरे लाल रंग के बड़े-बड़े गुच्छों में लटके लीची के फल देखते ही बनते हैं। पहली शताब्दी में दक्षिण चीन से प्रारंभ होने वाली Lichi की खेती आज थाइलैंड, बांग्लादेश, उत्तर भारत, दक्षिण अफ्रीका, हवाई और फ्लोरिडा तक फैल चुकी है। इन प्रदेशों की जलवायु Lichi के लिए उपयुक्त पाई गई है। अन्य फलों की तरह Lichi भी पौष्टिक तत्वों का भंडार है। इसमें विटामिन सी, पोटैशियम और नैसर्गिक शक्कर की भरमार होती है। गरमी में खाने से यह शरीर में पानी के अनुपात को संतुलित रखते हुए ठंडक भी पहुँचाता है। दस लीचियों से हमें लगभग ६५ कैलोरी मिलती हैं। Lichi में सूरज की अल्ट्रावॉयलेट यूवी किरणों से हमारी त्वचा और शरीर का बचाव करने की खासियत होती है। Lichi के नियमित सेवन से तैलीय त्वचा को पोषण मिलता है।

लीची पित्त और कब्जनाशक है। जिन लोगों को पित्त और कब्ज रहती हो, वे लोग लीची का सेवन कर इनसे मुक्ति पा सकते हैं। लीची यकृत के लिए टॉनिक है। इसके नियमित सेवन से यकृत मजबूत होता है और अच्छे ढंग से कार्य करता है। भूख तेज लगती है जिन लोगों के मुह से दुर्गंध आती हो, उन लोगों को Lichi का प्रयोग भरपूर मात्रा में करना चाहिए। इससे खुलकर पेशाब आता है और मूत्रविकार दूर हो जाता है। पेट् गर्म हो गया हो, खून की कमी हो गयी हो तो Lichi के फल का सेवन करें। यह ऑतों को बल प्रदान करती है और पेट को ठंडक पहुँचाती है जिससे रात को चैन की नींद आती है। लीची में और भी गुण हैं

loading...

लीची खाने के फायदे :-

    1. Lichi को बतौर फल ही नहीं खाया जाता, इसका जूस और शेक भी बहुत पसंद किए जाते हैं। जैम, जैली, मार्मलेड, सलाद और व्यंजनों की गार्निशिंग के लिए भी लीची का इस्तेमाल किया जाता है। स्ट्राबेरी की तरह दिखने वाली हार्ट-शेप लिए छोटी-सी लीची में कार्बोहाइड्रेट, विटामिन सी, विटामिन ए और बी कॉम्प्लेक्स, पोटेशियम, कैल्शियम, मैग्नीशियम, फॉसफोरस, लौह जैसे खनिज लवण पाए जाते हैं, जो इसे हमारी सेहत का खजाना बना देते हैं।
    2. कुछ वैज्ञानिकों ने तो Lichi को ‘सुपर फल‘ का दर्जा भी दिया है। अध्ययनों से साबित हुआ है कि विटामिन सी, फ्लेवोनॉयड, क्यूरसीटीन जैसे तत्वों से भरपूर लीची में कैंसर, खासतौर पर स्तन कैंसर से लड़ने के गुण पाए जाते हैं। इसके नियमित सेवन से हमारे शरीर में कैंसर के सेल्स ज्यादा बढ़ नहीं पाते।
    3. Lichi एक अच्छा एंटीऑक्सीडेंट भी है। इसमें मौजूद विटामिन सी हमारे शरीर में रक्त कोशिकाओं के निर्माण और लोहे के अवशोषण में भी मदद करता है, जो एक प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने के लिए जरूरी है। रक्त कोशिकाओं के निर्माण और पाचन-प्रक्रिया में सहायक Lichi में बीटा कैरोटीन, राइबोफ्लेबिन, नियासिन और फोलेट जैसे विटामिन बी काफी मात्रा में पाया जाता है।
    4. यह विटामिन लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण और पाचन-प्रक्रिया के लिए जरूरी है। इससे बीटा कैरोटीन को जिगर और दूसरे अंगों में संग्रहीत करने में मदद मिलती है। फोलेट हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियंत्रित रखता है। इससे हमारा तंत्रिका तंत्र स्वस्थ रहता है।
    5. Lichi हमारी सेहत के साथ ही फिगर का भी ध्यान रखती है। इसमें घुलनशील फाइबर बड़ी मात्रा में मिलता है, जो मोटापा कम करने का अच्छा विकल्प है। फाइबर हमारे भोजन को पचाने में सहायक होता है और आंत्र समस्याओं को रोकने में मदद करता है। यह वायरस और संक्रामक रोगों से लड़ने के लिए हमारे शरीर में रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है। यह फाइबर कमजोर और बुजुर्गों को स्वस्थ रहने में मदद करता है।
    6. Lichi ऊर्जा का स्‍त्रोत है। थकान और कमजोरी महसूस करने वालों के लिए लीची बहुत फायदेमंद है। इसमें मौजूद नियासिन हमारे शरीर में ऊर्जा के लिए आवश्यक स्टेरॉयड हार्मोन और हीमोग्लोबिन का निर्माण करता है, इसलिए काम की थकावट के बावजूद Lichi खाने से आप दोबारा ऊर्जावान हो जाते हैं।
    7. Lichi का रस एक पौष्टिक तरल है। यह गर्मी के मौसम से संबंधित समस्याओं को दूर करता है और शरीर को ठंडक पहुंचाता है। लीची हमारे शरीर में संतुलित अनुपात में पानी की आपूर्ति करती है और निर्जलीकरण से बचाती है। पेट और अन्य बीमारियों की रोकथाम में असरदार लीची शरीर की अम्लता के उच्च स्तर को कम करके पाचन संबंधी विकारों को दूर करती है।
    8. गैस्ट्रो आंत्र विकार, हल्के दस्त, उल्टी, पेट की खराबी, पेट के अल्सर और आंतरिक सूजन से उबरने में लीची का सेवन फायदेमंद है। यह कब्ज या पेट में हानिकारक टोक्सिन के प्रभाव को कम करती है। गुर्दे की पथरी से होने वाले पेट दर्द से आराम पहुंचाती है। मधुमेह के रोगियों के तंत्रिका तंत्र को होने वाली क्षति को रोकने में मदद करती है।
    9. Lichi विटामिन सी का बहुत अच्छा स्त्रोत होने के कारण खांसी-जुकाम, बुखार और गले के संक्रमण को फैलने से रोकती है। यह संक्रामक एजेंटों के खिलाफ प्रतिरोधक के रूप में काम करती है और हानिकारक मुक्त कणों को हटाती है। गंभीर सूखी खांसी के लिए तो लीची रामबाण है। ऑलिगनॉल नामक रसायन की मौजूदगी के कारण लीची एन्फ्लूएंजा के वायरस से आपका बचाव करती है।
    10. Lichi में सूरज की अल्ट्रावॉयलेट यूवी किरणों से त्वचा और शरीर का बचाव करने की खासियत होती है। इसके नियमित सेवन से ऑयली स्किन को पोषण मिलता है। साथ ही मुंहासों के विकास को कम करने में मदद मिलती है। चेहरे पर पड़ने वाले दाग-धब्बों में कमी आ जाती है।
    11. Lichi में पाए जाने वाले कैल्शियम, फॉसफोरस और मैग्नीशियम तत्व बच्चों के शारीरिक गठन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। ये मिनरल्स अस्थि घनत्व को बनाए रखते हैं। ये ऑस्टियोपोरोसिस को रोकने में मदद करते हैं। Lichi के छिलके वाली चाय सर्दी-जुकाम, दस्त, वायरल और गले के इंफेक्शन के इलाज में मददगार है।
    12. लीची तंत्रिका तंत्र की नसों और जननांगों की सूजन के इलाज में फायदेमंद है। इससे दर्द से राहत मिलती है। किसी भी अंग में सूजन कम करने के लिए लीची बीज के पाउडर का लेप लगाने से आराम मिलता है।
  1. Lichi बीज के पाउडर में दर्द से राहत पहुंचाने के गुण हैं। पाचन संबंधी विकारों को दूर करने के लिए बीज के पाउडर की चाय पीना फायदेमंद है। ऐसी चाय पीने से तंत्रिका तंत्र में होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है। पेट के कीड़े मारने के लिए शहद में यह पाउडर मिला कर खाया जाता है। हर्बल चाय में लीची पेड़ की जड़ों, फूल और छाल उबाल कर पीने से चेचक जैसे संक्रामक रोगों में राहत मिलती है।
  2. दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने Lichi के पल्प और छिलके में मौजूद फिनॉलिक कम्पाउंड से वजन कम करने, ब्लड प्रैशर नियंत्रित करने और हृदय रोगों की सप्लिमेंट्री दवाइयों का निर्माण किया है। इनमें हाईड्रोक्सीकट, लीची-60 सीटी और एक्स्रेडीन प्रमुख हैं। लीची से स्किन क्रीम भी बनाई गई है, जिससे चेहरे की झुर्रियां घटाई जा सकती हैं। इसे अल्कोहल बनाने के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।
  3. एक स्वस्थ व्यक्ति के लिए एक कटोरी या 10-11 दाने लीची का सेवन हितकर है। ज्यादा खाने से नकसीर या सिर दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। कई बार तो लीची की अधिकता से एलर्जी भी हो जाती है। शरीर में खुजली होना, जीभ तथा होंठ में सूजन आना और सांस लेने में कठिनाई जैसी समस्याएं सामने आती हैं।
  4. Lichi में मौजूद पोटेशियम दिल की बीमारियों से बचाव करता है। यह हृदय की धड़कन की अनियमितता अथवा अस्थिरता और रक्तचाप को नियंत्रित रखता है। लीची में मौजूद लाभदायक रासायनिक तत्व शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं का निर्माण करते हैं, जिससे शरीर में खून की कमी नहीं हो पाती और रक्त का प्रवाह सही ढंग से होता रहता है। इसी वजह से लीची का नियमित सेवन हार्ट अटैक की संभावना 50 प्रतिशत कम कर देता है।
  5. Lichi पाचन को ठीक कर के कब्ज से बचाती है। साथ में असमय पडऩे वाली झुर्रियों से भी दूर रखती है।
  6. अगर आपका गला दर्द हो रहा हो या आपको ठंड लग गई हो, तो आप तुरंत लीची का सेवन कर के आराम पा सकते हैं।
  7. Lichi के नियामित सेवन से त्वचा में निखार आता है, साथ ही तैलीय त्वचा में पोष्ण मिलता है। चेहरे पर पडने वाले दाग-धब्बों में कमी आती है पाचन विकारों को दूर करने के लिए लीची के बीज के पाउडर की चाय पीना चाहिए, यह सेहत के लिए काफी फायदेमंद है। तंत्रिका तंत्र में होने वाले दर्द में भी राहत मिलती है।

लीची से होने वाले नुक्सान :- 

लीची सिंड्रोम क्या है । लीची का मौसम आ गया है, लेकिन Lichi सिंड्रोम वायरस से भी आप सावधान रहें । किसी भी फल को अप्राकृतिक तरीके से पका कर खाने से इस तरह का खतरा बढ़ सकता है ……

लीची सिंड्रोम का लक्षण 

लीची सिंड्रोम एक प्रकार का वायरल संक्रमण है, जो कच्ची लीची खाने से हो सकता है । इस सक्रमण से पीड़ित मरीज को तेज बुखार, तेज सिरदर्द, चक्कर, उल्टियाँ व पेट में दर्द जैसे लक्षण होते हैं ।

खाने से पहले रखे ध्यान 

फल अपने मौसम के अनुरूप प्रकृतिक तौर पर ही फायदेमंद है । कई बार बजार में मिलनी वाली Lichi, कच्ची लीची को प्रिजव्रेटिव व केमिकल के जरिए पकाकर बेचा जाता है, जो संक्रमन बढ़ा सकता है । बेहतर है की आप पकी लीची को उसके मौसम में ही खाए और बारिश से पहले इसे खाना छोड़ दें । बारिश में Lichi में कीड़े लग जाते हैं, इसीलिए इन्हें पहली बारिश के पहले ही खाना फायदेमंद है ।

लीची कब खाएं, कब ना खाएं ।

Lichi का मौसम दो से ढाई महीने का होता है । आमतौर पर अप्रेल के अंत से लेकर जून माह के अंत या जुलाई के पहले हफ्ते तक यह बजार में उपलब्ध रहती है ।

Article Source :- http://hindi.speakingtree.in/

Loading...
loading...

Related posts