Search

मुंह के कैंसर या ओरल कैंसर से बचाव के उपाय

मुंह के कैंसर

मुंह के कैंसर  या ओरल कैंसर आज हमारे आस पास बहुत ही तेज गति बढ़ता जा रहा है। ओरल कैंसर के होने का सबसे बड़ा जोखिम है पान मसाला, तम्बाकू व गुटका जैसी चीजो का लगातार सेवन करना। साथ ही अल्कोहल का सेवन भी एक जोखिम कारक है। अगर आप धूम्रपान करते हैं, तम्बाकू भी चबाते हैं और यहां तक की शराब या अल्कोहल का प्रयोग भी करते हैं तो आपमें कैंसर की सम्भावना कई गुना बढ़ जाती है।

अगर आप धूम्रपान या तम्बाकू का प्रयोग करते हैं तो ऐसी योजना अपनायें जिससे कि आप जल्दी से जल्दी धूम्रपान और तम्बाकू छोड़ दें। अगर आप हाल में तम्बाकू का प्रयोग कर रहे हैं लेकिन आपने पहले धूम्रपान किया है या तम्बाकू का सेवन किया है तो ऐसे में आपको अपने लक्षणों को लेकर सतर्क रहना चाहिए।

loading...

मुंह के कैंसर के लक्षण दिखने या प्रथम चरण में ही इसकी जांच से पता चल जाये तो इसका निदान संभव है। इसमें देरी करने पर इसकी भयावहता बढ़ जाती है। आइए हम आपको वह उपाय बताते है जिनको अपनाकर आप ओरल कैंसर से बचाव कर सकते हैं।

मुंह के कैंसर  से बचाव के टिप्स

    • आपको अपने चिकित्सक से तुरंत सम्पर्क करना चाहिए। साल में कम से कम एक बार मुंह की जांच करानी चाहिए जिससे कि आपको कैंसर की स्थिति का पता चल सके।
    • होठों पर होने वाला कैंसर सूरज की किरणों के सम्पर्क में आने से होता है। अगर आपकी नौकरी ऐसी है तो दोपहर के घंटों में सूरज के सम्पर्क में आने से बचें। अल्ट्रावायलेट किरणों से बचने के लिए आप सनस्‍क्रीन, लिपबाम या टोपी का इस्तेमाल कर सकते हैं।
    • दांतों व मुंह की नियमित दो बार अच्छी तरह सफाई करें। दांतों मसूड़ों व मुंह के भीतर कोई भी बदलाव नजर आए तो तत्काल डॉक्टर से जांच करायें।
    • जंक फूड, प्रोसेस्ड फूड, कोल्ड ड्रिंक्स, डिब्बा बन्द चीजों का सेवन बन्द कर दें, इनके स्थान पर ताजे मौसमी फल, सब्जी, सलाद लें। इनका इस्‍तेमाल अच्‍छी तरह से धोकर करें साथ ही भोजन कम पका उपयोग करें। रसायन से रक्षित या पकाए फल न खाएं। बाजार का तला भुना न खाएं। तेल, घी, नमक, चीनी का इस्‍तेमाल कम करें। पालिश चावल व मैदा त्याग दें।
    • प्रदूषण युक्त और रेडियो एक्टिविटी वाले क्षेत्र में न जाएं। कीटनाशक, रसायन, कृत्रिम रंग, मिलावटी चीजों से बचें।
  • धूम्रपान करने वालों से भी उचित दूरी बना कर रखें।
  • अपील:– दोस्तों यदि आपको  पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे नीचे दिए बटनों द्वारा Like और Share जरुर करें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग इस पोस्ट को पढ़ सकें हो सकता आपके किसी मित्र या किसी रिश्तेदार इस बीमारी से दुखी  हो और यदि किसी को इस post से मदद मिलती है तो आप को धन्यवाद जरुर देगा. साथ ही हिन्दी भाषा का प्रचार होगा !

Article Source :- http://www.onlymyhealth.com/

Loading...
loading...

Related posts