Search

फल खाना ज्यादा लाभदायक है या उनका जूस पीना ?

loading...

फल का सेवन कब और कैसे करें ?

फल हमारे स्वास्थ्य कितने लाभकारी है आप इस बात से अंदाज़ा लगा सकते हैं की जब भी हम बीमार पड़ते हैं तो डॉक्टर हमें खाने के लिए फल ही बोलता है और यदि हम अपने धर्म में झांक कर देखें तो देवताओं का भोजन भी फल हैं फल अपने आप में सम्पूर्ण भोजन है लेकिन हम लोग अभी तक फल को अपने दैनिक जीवन में वो स्थान नहीं दे पायें जो उन्हें मिलना चाहिये
फल को कब और कैसे खाना है यह भी बहुत कम लोग जानते हैं और अधिकतर लोग फलों को भोजन के बाद स्थान देते हैं जो की सरासर गलत है फल को खाने के भी कुछ नियम है तभी उनके गुण हम प्राप्त कर सकते हैं वरना वो शरीर और स्वास्थ्य को लाभ पहुँचाने की स्थान पर नुक्सान ही पहुंचाएंगे

फल का असमय सेवन करने के नुक्सान

आपने नोट किया होगा की कभी कभी फल खाने के बाद तबियत ख़राब हो जाती है या कुछ लोगों को तो य वहम भी है की में ये फल खाया था तो में बीमार हो गया ऐसा सिर्फ फलों को खाने के बारे में जानकारी न होने की वजह से है हमे फल क्यों खाने चाहिये ? फल किस के साथ खाने चाहिये ? कब खाने चाहिये ? आज हम आपको इनसब बातों के बारे में जानकारी देंगे हर फल खाने के कुछ नियम है और हम जैसे जैसे इन नियमों का पालन करेंगे तो हम इनसे शक्ति मिलने के साथ अच्छा स्वास्थ्य भी मिलेगा
अक्सर बहुत से लोगों की शिकायत होती है की जैसे ही मैंने केला खाया तो मुझे पाखाने की इच्छा होती है या हज़म नहीं होता सारा दिन छाती भारी सी रहती है या जब भी मैं तरबूज खाता हूँ तो डकारें आती रहती हैं ये सब फल के रस का भोजन के संपर्क में आने की वजह से होता है बहुत से लोगों को तो फल खाने के बाद गैस  और पेट फूलने जैसे शिकायत भी होती है इन सबकी जड़ असमय खाया जाने वाला फल है यदि आप किसी भी फल को खली पेट लेंगे तो इस तरह की दिक्कत का सामना नहीं करना पडेगा

खाली  पेट फल खाने के फायदे

फल को खाने का सही समय है खाली पेट या सुबह का समय यदि आप फलों को खली पेट खाते हैं तो यह आपके पाचन तंत्र के विष को बाहर निकलने में मदद करेगा और आपको शक्ति भी मिलेगी सह्रेर की फालतू चर्बी घटेगी और उर्जा का संचार होगा जो लोग किसी भी समय फल खाते हैं या भोजन करने के बाद फल का सेवन करते हैं वेह फल उनके पेट में जा कर सड़ता है सड़ने पर जो खमीर बनता है तो उसमे फल भी जा कर सड़ने लगते हैं और तेजाब बनाते हैं यदि हमारे पेट में फल किसी भी अन्न के संपर्क में आ जाते हैं तो वेह पाचन रसों के साथ मिलकर सारे भोजन को ख़राब कर देते हैं यही कारण है की फल को हमेशा खली पेट खाना चाहिये
आप फलों को खाली पेट खाना शुरू करें तो आप देखेंगे की आपके बाल यदि सफेद है तो वो सफ़ेद होना रुक जायेंगे और काले होने शुरु हो जायेंगे , गंजापन नहीं रहेगा , सिरदर्द जैसी शिकायत अपने आप ख़तम हो जाएँगी उसके लिया आपको कुछ दिन फलाहार पर ही रहना चाहिये कम से कम तीन दिन . यदि आप तीन दिन सिर्फ फल खा कर रह लेते हैं तो आपके शरीर की सफाई तो होगी ही साथ ही यदि आँखों के निचे काले घेरे है तो वो भी ख़तम हो जायेंगे और आपकी सुन्दरता में निखार आयेगा
मैंने अपने पिछले लेखों में भी बताया था की कोशिश करें की सप्ताह में 1 दिन सिर्फ फलाहार करें या महीने में 1 सप्ताह फल खाएं यदि आप इस तरह के नियम नहीं कर सकते तो सुबह नाश्ते में सिर्फ फल लें आपको कभी भी डॉक्टर की जरुरत महसूस नहीं होगी
अब बात करते हैं फलों के रस यानि फ्रूट जूस की तो में तो हमेशा से एक समय में एक ही तरह का फल खाने की सलाह देता हूँ लेकिन यदि आप फल खाने की स्थति में नहीं हैं तो आपको ताज़े फलों का जूस लेना चाहिये बिना किसी भी तरह का नमक या बर्फ या मीठा डाले और हमेशा जूस को घूट घूट कर पीना चाहिये ताकि आपके मुह की लार उसमे अच्छी तरह मिक्स हो जाये . डिब्बा बंद जूस कभी भी नहीं पीना चाहिये न ही जूस को कभी गरम करना चाहिये
फलों के गुण :-
  1. हर रोज़ सुबह खली पेट एक सेब खाने से आप डाक्टर से हमेशा दूर रहेंगे। सेब खाएं और स्वस्थ रहें। हर रोज़ एक सेब खाने से हृदय रोग व कैंसर होने का खतरा कम हो जाता है।
  2. संतरा हर रोज़ खली पेट खाने से एक दवाई की तरह काम करता है इससे शरीर में कोलेस्ट्रोल कम होता है, गुर्दे यदि पथरी हो तो उसे गला कर पेशाब के रास्ते बाहर निकाल देता  है आयुर्वेद के अनुसार कुछ फल जैसे संतरा, नींबू आदि अम्लीय हैं पर हमारे शरीर में जाकर सब क्षारीय में परिवर्तित हो जाते हैं।
  3. तरबूज ठंडा होने के कारण शरीर में ठंडक तो देता ही है साथ ही शरीर में पानी की कमी को पूरा करता है क्योंकि इसमे  92% पानी होता है। तरबूज खाने के बाद कम से कम 2 घंटे तक पानी नहीं पीना चाहिये
  4. अमरूद और पपीता को शरीर के अंदर की सफाई में प्रयोग होने वाली झाड़ू की संज्ञा दी गयी है क्योंकि यह शरीर की सफाई करते हैं इनमें विटामिन- सी सबसे अधिक होता है। पपीता आंखों के लिए भी बहुत लाभदायक है और अमरूद के बीज और रेशे बहुत होते हैं जिससे कब्ज नहीं रहती ।
  5. कीवी फल छोटा है पर इसमें पोटाशियम (Potassium), मेग्नीशियम (Magnesium) विटामिन ई (Vitamin E ) और रेशे बहुत मात्रा में होते हैं

आप फल खाने की विधि जान चुके हैं और यदि आप इसे अपना लेते  है तो आप सुंदर, दीर्घायु, स्वस्थ शरीर संपन्न , शक्ति संपन्न कहलायेंगे कोशिश करें अपने साथ साथ अपने मित्रों और सगे सम्बन्धियों के साथ भी इस जानकारी को शेयर जरुर करें.

 

Loading...

Related posts