Search

नाशपाती (Pears stored in the rainy season of your health care)

नाशपाती के आयुर्वेदिक और औषधीय गुण 

नाशपाती खाने में मीठा, स्वादिष्ट होने के साथ-साथ बहुत पौष्टिक भी होता हैं। इसमें कई पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, क्लोरीन, लोहा, मैग्नीशियम, सोडियम और सल्फर की कम मात्रा के साथ तांबा, फास्फोरस और पोटेशियम आदि पाये जातें हैं। आयुर्वेद के अनुसार नाशपाती पाचन में सुधार, वजन कम करने, हृदय स्वास्थ्य में सुधार, रक्तचाप कम करने, कैंसर को रोकने, घाव भरने, स्वस्थ त्वचा, सूजन को कम करने, रोगी को जल्दी ऊर्जा देने वाली, मल साफ करने वाली, प्यास बुझाने वाली और त्रिदोष नाशक और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में उपयोग किया जाता हैं। 

100 ग्राम नाशपाती में 9 मिलीग्राम सोडियम ,14 मिलीग्राम फॉस्फोरस ,लोहा – 2.3 मिलीग्राम ,आयोडीन 1 मिलीग्राम कोबाल्ट, 10 मिलीग्राम , मैंग्नीज 65 मिलीग्राम, कॉपर – 120 मिलीग्राम, मोलिब्डेनम – 5 मिलीग्राम फ्लोरीन 10 मिलीग्राम, जिंक – 190 ग्राम, विटामिन ए, विटामिन बी1, बी2, और पोटैशियम भी पाया जाता है। साथ ही, भरपूर मात्रा में कैल्शियम भी पाया जाता है।

loading...

नाशपाती के लाभ/गुण/फायदे

नाशपाती में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने और जुकाम, फ्लू और संक्रमण से लड़ने में मदद करता हैं। नाशपाती फाइबर का एक अच्छा स्त्रोत हैं जो पाचन तंत्र को मजबूत बनाता हैं। इसमें मौजूद पेक्टिन कब्ज, दस्त और अन्य पाचन समस्याओं को दूर करने में मदद करता हैं।

  1. नाशपाती में हाइड्रोऑक्सीनॉमिक एसिड होता है जो पेट के कैंसर को रोकने में मदद करता है। इसका फाइबर पेट के कैंसर को बढ़ने से रोकता है और बड़ी आंत को स्वस्थ बनाए रखता है।
  2. नाशपातीके नियमित सेवन से मेनोपॉज के बाद महिलाओं में होने वाले कैंसर का खतरा भी कम हो जाता है। इसमें मौजूद विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट गुण कैंसर के नुकसान से कोशिकाओं की रक्षा करती है।
  3. नाशपातीमें बहुत से विटामिन्स और मिनरल्स होते हैं इसलिए इसको खाने से हमारे शरीर को विटामिन्स और मिनरल्स की पूर्ति हो जाती है।
  4. नाशपातीमें बहुत कम कैलोरी और उच्च फाइबर होते हैं जो वजन कम करने और कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद कर सकता हैं।
  5. नाशपातीमें मौजूद पोटेशियम रक्तचाप को कम करने के साथ ही दिल का दौरा और स्ट्रोक का खतरा कम करने में मदद करता हैं।
  6. नाशपातीमें विटामिन सी और तांबा जैसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो कई प्रकार के कैंसर जैसे कोलोन, मलाशय, स्तन, प्रोस्टेट और फेफड़ों के कैंसर के खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर सकता हैं।
  7. नाशपाती में मौजूद फोलिक एसिड (फोलेट) गर्भवती महिलाओं के शिशुओं में न्यूरल ट्यूब दोष से बचाता हैं।
  8. नाशपाती आयरन का एक अच्छा स्त्रोत हैं जो हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाता हैं और एनीमिया से ग्रस्त रोगियों को सुरक्षा प्रदान करता हैं।
  9. नाशपाती के रस में fructose और ग्लूकोज के उच्च मात्रा होते हैं जिससे शरीर में तुरंत ऊर्जा प्राप्त कर सकते हैं।
  10. गर्मियों के दौरान हर सुबह और रात नाशपाती का रस पीने से शरीर को ठंडा करने और गले की समस्याओं को रोकने में मदद करता हैं।
  11. एक गिलास नाशपाती का रस पीने से जल्दी ही बुखार से राहत मिल सकता हैं।
  12. नाशपाती की उच्च खनिज सामग्री मैग्नीशियम, मैंगनीज, फास्फोरस, कैल्शियम, तांबे और बोरान ऑस्टियोपोरोसिस के खतरे को रोकने और शरीर की सामान्य कमजोरी जैसी स्थितियों को कम कर सकते हैं।
  13. नाशपाती में मौजूद विटामिन ए और एंटीऑक्सीडेंट त्वचा पर उम्र बढ़ने के प्रभाव को कम करने, झुर्रियों, मुँहासे और त्वचा से संबंधी अन्य समस्याओं को रोकने में मदद करता हैं।
  14. यह बालों के झड़ने, धब्बेदार अध: पतन, मोतियाबिंद, उम्र बढ़ने की प्रक्रिया और अन्य समस्याओं के इलाज में सहायक होता हैं।
  15. नाशपातीमें मौजूद पैक्टिन नामक घुलनशील फाइबर रक्त कोलेस्ट्रॉल और सेलूलोज के स्तर को नियंत्रित करता है। कम कोलेस्ट्रॉल हृदय रोग और मधुमेह को रोकने में मदद करता है।
  16. नाशपातीमें मौजूद पोटेशियम मांसपेशियों के संकुचन, तंत्रिका संचरण, काबरेहाइड्रेट और प्रोटीन के चयापचय पाचन में मदद करता है।
  17. इसे खाने से हमारे शरीर का लार्ज इन्टेस्टाईन स्वस्थ होता है|
  18. इसे खाने से कब्ज ठीक हो जाती है|
  19. इस का जूस ऊर्जा का एक बहुत अच्छा सत्रोत है क्योंकि इसमें अधिक मात्रा में ग्लूकोस और फ्रुक्टोज़ होता है|
  20. इस में एंटीऑक्सीडेंट गुण, विटामिन सी और तांबा पर्याप्त मात्रा में मिलता है जो आपके शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार लाते हैं। विटामिन सी सामान्य मेटाबोलिज़म और ऊतकों के मरम्मत में मदद करता है। घाव के उपचार में काम आता है और संक्रामक रोगों के खिलाफ रक्षा में मदद करता है ; जिससे हमें सर्दी, खांसी, जुकाम जैसी बीमारियाँ नहीं होती|
  21. मधुमेह नियंत्रण- फाइबर से युक्त नाशपाती मधुमेह रोगियों के लिए बहुत अच्छा नाश्ता है। इससे मीठा खाने की तलब में आराम मिलता है। इसकी शकर को खून धीरे-धीरे अवशोषित कर लेता है, फाइबर इसके स्तर को नियंत्रित रखता है।
  22. नाशपाती का जूस शरीर की सुजन को ठीक कर देता है|
  23. नाशपाती में अधिक मात्रा में बोरोन होता है| बोरोन हड्डियों में केल्शियम को बनाए रखने में मदद करता है| इसलिए ओस्टीओपोरोंसिस होने का खतरा नहीं होता|
  24. नाशपाती गर्भवती माँ और उसके बच्चे के लिए बहुत लाभकारी होती है|
  25. नाशपाती का जूस पीने से गला ठीक रहता है|

दोस्तों बारिश का मौसम चल रहा है जिसमे शरीर की रोग प्रतिरोधक शक्ति कुछ कमजोर हो जत्ती है जिस कारण रोग अधिक होने खतरा रहता है खास कर बुखार, जुकाम, शरीर में पानी की कमी आदि | इन सबसे बचने का सबसे आसान तरीका है तला  भुना खाना कम खाएं और जो भी मौसमी फल बाजार में उपलब्ध हो उन्हें जरुर लें जिस से आप को ताकत भी मिलेगी और रोगों से लड़ने की शक्ति भी फलों द्वारा मिलती रहेगी |

नाशपाती जैसे फलों को खाकर आपको खाना कम करने की जरूरत नहीं होती। नाशपाती को अच्छी तरह धो कर छिलके समेत खाना चाहिए क्योंकि विटामिन और खनिज ज्यादातर इसके छिलके में होते हैं।

सावधानी :- जल्दबाजी में इसे निगलने पर पाचन तंत्र पर दवाब पड़ता है, जिससे पेट दर्द होता है। इसे काटने के बाद देर तक रखना नहीं चाहिए क्योंकि इससे नाशपाती में मौजूद लौह ऑक्साइड से लोहा फैरिक ऑक्साइट के रूप में बदल जाता है। हवा के संपर्क में आने से यह भूरे रंग में बदलकर हानिकारक हो जाता है।

विशेष :- फल हमेशा स्वदेशी ही खरीदें वरना आपको फायदे की जगह नुक्सान भी हो सकता है 

Loading...
loading...

Related posts