Search

नभो मुद्रा – मुद्रा से आरोग्य एवं आध्यात्मिक लाभ

loading...

नभो मुद्रा (दूसरी मुद्रा) 

नभो मुद्रा के द्वारा बहुत से रोगों को समाप्त किया जा सकता है। नभ का मतलब होता है `आकाश´ और नभोमुद्रा का काम है जीभ को तालु की ओर लगाना। नभो मुद्रा करना कोई आसान काम नहीं है। यह एक बहुत ही रहस्यात्मक अभ्यास है।  पूरे शरीर को सिर से ऊर्जा का प्रवाह से संबंधित है जो इस मुद्रा के लिए एक और पहलू है। यह कॉस्मिक ऊर्जा सुषुम्ना नाड़ी या केंद्रीय मध्याह्न के माध्यम से प्रवाह और पूरे शरीर को पोषण कर सकते हैं कि कहा जाता है। लेकिन दुर्भाग्य से इस प्रवाह गले के क्षेत्र में टूट गया है। तालू के खिलाफ जीभ रखकर ब्रह्मांडीय ऊर्जा के इस टूटे सर्किट फिर से कनेक्ट करने के लिए एक ही रास्ता है नभो मुद्रा।

महामुद्रां नभोमुद्रां उड्डीयानं जलंधरम्।

मूलबंधंच यो वेत्ति स योगी मुक्तिभाजनः।

उक्त पांच मुद्राएं प्रमुख हैं। शक्तिचालन का अभ्यास होने पर भी उक्त मुद्राएं करते रहना चाहिए। अनेक विद्वान महा मुद्रा और नभो मुद्रा दोनों को प्रमुख मुद्राएं मानते हैं। नभो मुद्रा और खेचरी मुद्रा में कोई अंतर नहीं है फिर भी खेचरी नाम अधिक प्रसिद्ध है।

loading...

इस मुद्रा को करने वाला साधक अपनी आंखों को अपनी दोनों भौंहों के बीच में टिकाकर रखता है। नभोमुद्रा की क्रिया तभी पूरी होती है जब आपकी नज़र दोनों भौंहों के बीच में हो और आपकी जीभ तालु के साथ लगी हुई हो। यह दोनो चीजें एक ही साथ और एक ही समय में होनी चाहिए।

यत्र यत्र स्थितों योगी सर्वकार्येषु सर्वदा।

उर्ध्वजिव्ह: स्थिरो भूत्वाधारयेत्मवनं सदा।

नभोमुद्रा मवेदुषा योद्विना रोग नाशिनी।।

अर्थ- सारे कामों में स्थिर हुआ योगी अपनी जीभ के अगले भाग को मुंह के अंदर तालू में लगाकर सांस को अंदर रोक लेते हैं। इस नभो मुद्रा को करने से योगी के सारे रोग समाप्त हो जाते हैं।

वैश्विक प्राण का मुक्त प्रवाह शरीर के लिए अद्भुत परिणाम कर सकते हैं। यह नभो मुद्रा का प्रदर्शन करके , योगी शरीर के सभी रोगों और विकारों को हटा कि घेरंड संहिता में कहा गया है। वैश्विक प्राण पूरे सिस्टम पर एक अद्भुत चिकित्सा प्रभाव पड़ता है।

लाभकारी-
इस मुद्रा के निरंतर अभ्यास से जीभ, गले और आंखों के सारे रोग अपने आप ही समाप्त हो जाते हैं और शरीर की ग्रंथियों पर भी इसका अच्छा असर पड़ता है। कंठमूल रोग होने पर भी इस मुद्रा को रोजाना करने से बहुत अच्छा असर पड़ता है।

नभो मुद्रा जीभ और विचारों के बीच एक सूक्ष्म कनेक्शन करता है जो किसी रहस्य से कम नहीं है नभो मुद्रा एक सूक्ष्म सह-संबंध मन और हमारी जीभ के बीच विकसित करता है। यह  सिद्धांत साधक के लिए एक बड़ी मदद करता  है । जिन लोगों की निर्णय शक्ति कमजोर है या सही समय पर सही निर्णय नहीं ले पाते वो लोग नभो मुद्रा का उपयोग करें और आप अपने मन को शांत करने के लिए मदद मिलेगी।

Source Article :- https://sa.wikisource.org/wiki/

Loading...

Related posts