Search

जिमीकंद (Yam) के आयुर्वेदिक और औषधीय गुण

जिमीकंद गुणों का खज़ाना

जिमिकंद को संस्कृत में सूरण, हिन्दी में सूरन, जिमिकंद, जिमीकंद व मराठी में गोडा सूरण, बांग्ला में ओल, कन्नड़ में सुवर्ण गडड़े, तेलुगु में कंडा डूम्पा और फारसी में जमीकंद कहा जाता है। हाथी के पंजे की आकृति के समान होने के कारण इसे अंग्रेजी में एलीफेंट याम या एलीफेंटफुट याम कहते हैं।

जिमीकंद एक बहुत ही आम सी सब्जी है। जो  जमीन के नीचे उगती है। जिमीकंद एक सब्जी ही नहीं बल्कि एक जड़ी-बूटी भी है, जो कि सभी को स्वस्थ एवं निरोगी रखने में मदद करती है। जिमीकंद की सब्जी में अच्छी मात्रा में ऊर्जा पाई जाती है। इसमें खूब सारी मात्रा में फाइबर, विटामिन सी, विटामिन बी, फोलिक एसिड और नियासिन होता है। साथ ही मिनरल जैसे पोटाशियम, आयरन, मैगनीशियम, कैल्शियम और फासफोरस पाया जाता है।  जिमिकंद एक गुणकारी सब्जी है। इसके पत्ते 2-3 फुट लंबे, गहरे हरे रंग के व हल्के हरे धब्बे वाले होते हैं। इसकी पत्तियां अनेक छोटी-छोटी लंबोतरी गोल पत्तियों से गुच्छों में घिरी होती हैं। इसका कंद चपटा, अंडाकार और गहरे भूरे व बादामी रंग का होता है। अनेक संप्रदायों में प्याज-लहसुन के साथ-साथ जिमिकंद से दूर रहने की सलाह दी जाती है, क्योंकि यह कामुकता बढ़ाने वाला होता है।

loading...

इसमें विटामिन ए व बी भी होते हैं। यह विटामिन बी-6 का अच्छा स्रोत है तथा रक्तचाप को नियंत्रित कर हृदय को स्वस्थ रखता है। इसमें ओमेगा-3 काफी मात्रा में पाया जाता है। यह खून के थक्के जमने से रोकता है। इसमें एंटीऑक्‍सीडेंट, विटामिन सी और बीटा कैरोटीन पाया जाता है, जो कैंसर पैदा करने वाले फ्री रेडिकलों से लड़ने में सहायक होता है। इसमें पोटैशियम होता है जिससे पाचन में सहायता मिलती है। इसमें तांबा पाया जाता है, जो लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाकर शरीर में रक्त के बहाव को दुरुस्त करता है।

आयुर्वेद के अनुसार इसे उन लोगों को नहीं खाना चाहिए जिनको किसी भी प्रकार का चर्म या कुष्ठ रोग हो। जिमिकंद अग्निदीपक, रूखा, कसैला, खुजली करने वाला, रुचिकारक विष्टम्मी, चरपरा, कफ व बवासीर रोगनाशक है। इसे आप कभी-कभार इसलिए खा सकते हैं, क्योंकि इसमें ओमेगा-3 होता है और इसमें भरपूर मात्रा में तांबा पाया जाता है।

जिमीकंद (Yam) के फायदे 

दिमाग तेज बनाये :- जिमीकंद दिमाग तेज करने में भी आपकी मदद करता है। अक्सर बहुत सी चीजें हम भूल जाते हैं, लेकिन जिमीकंद खाने से याद करने की पावर बढती है और दिमाग तेज बनता है। साथ ही यह अल्‍जाइमर रोग होने से भी बचाता है। अगर आप अपना दिमाग तेज करना चाहते हैं तो जिमीकंद को अपने आहार में शामिल करें।

लाल रक्त कोशिकाओं में करें इजाफा :- जिमीकंद में पाया जाने वाला कॉपर लाल रक्त कोशिकाओं को बढ़ाकर शरीर में खून के फ्लो को दुरुस्‍त करता है। और आयरन ब्लड सर्कुलेशन को ठीक करने में मदद करता है।

एंटीऑक्‍सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण :- जिमीकंद में अधिक मात्रा में एंटीऑक्‍सीडेंट, विटामिन सी और बीटा कैरोटीन पाया जाता है जो कैंसर पैदा करने वाले फ्री रैडिकल्‍स से लड़ने में सहायक होता है। साथ ही इसमें मौजूद एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण यह आहार गठिया और अस्थमा रोगियों के लिये सबसे अच्छा होता है।

पाचन क्रिया दुरुस्‍त बनाये :- जिमीकंद में पोटैशियम की मौजूदगी के कारण यह पाचन क्रिया को दुरुस्‍त करने में मदद करता है। इसे नियमित खाने से कब्ज़ और खराब कोलेस्‍ट्रॉल की समस्या दूर हो जाती है।

विटामिन बी6 का स्रोत :- शरीर में अच्छी मात्रा में बी 6 होने से दिल की बीमारी नहीं होती। यह ब्लड प्रेशर और हार्ट फेल के लिये भी जिम्मेदार है। और जि‍मीकंद में विटामिन बी भरपूर मात्रा में पाया जाता है। रक्तचाप को नियंत्रित कर हृदय को स्वस्थ रखता है। इसमें ओमेगा-3 काफी मात्रा में पाया जाता है। यह खून के थक्के जमने से रोकता है।

बवासीर और दस्त में लाभकारी :- जिमीकंद का अधिकतर उपयोग बवासीर, सांस रोग, खांसी, आमवात और कृमिरोगों आदि में किया जाता है। जिमीकंद के प्रमुख गुणों में से एक इसका उपयोग अर्श अथवा बवासीर में होना है और इसी वजह से इसे अर्शीघ्न भी कहते हैं। जिन लोगों को लीवर या यकृत में समस्या हो उनके लिए भी जिमीकंद एक वरदान है। इसके सेवन से वातरोग में भी फायदा होता है।

वजन कम करने में सहायक :- फाइबर से भरपूर होने के कारण जिमीकंद के सेवन से आपको भरा हुआ महसूस होता है। जिससे आप आसानी से वजन कम कर सकते हैं। अगर आप भी अपना वजन कम करना चाहते हैं तो जिमीकंद को अपने आहार में शामिल करें।

सावधानियां :- आयुर्वेद के अनुसार जिमीकंद उन लोगों को नहीं खाना चाहिए जिनको किसी भी प्रकार का चर्म या कुष्ठ रोग हो। जिमिकंद ड्राई, कसैला, खुजली करने वाला, रुचिकारक, चरपरा, कफ व बवासीर रोगनाशक है। इसे आप कभी-कभार इसलिए खा सकते हैं, क्योंकि इसमें ओमेगा-3 होता है और इसमें भरपूर मात्रा में आयरन भी पाया जाता है।
Loading...
loading...

Related posts