Search

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया (OSA) के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA) क्या है ?

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA) नामक रोग में सोते समय अक्सर सांस लेने की प्रक्रिया कुछ पलों के लिए रुक जाती है और इसके बाद यह फिर शुरू हो जाती है। इसे ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया (OSA) रोग कहते हैं

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA) रोग के लक्षण

  • इतनी जोर से खर्राटे लेना कि अन्य लोगों की नींद में खलल पड़े।
  • सोते हुए बीच-बीच में अचानक सांस नहीं आना, जिससे अक्सर पीड़ित व्यक्ति नींद से उठ जाता है।
  • सोते समय बीच-बीच में सांस रुकना।
  • दिन भर सुस्ती छाई रहना, जिससे व्यक्ति काम के दौरान, टेलीविजन देखते हुए या वाहन चलाते हुए सो सकता है।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA) किन लोगों को है होती है ?

loading...
  • मोटापे से ग्रस्त लोगों को ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया होनी की आशंकाएं ज्यादा होती हैं।
  • गर्दन के मोटा होने से सांस मार्ग छोटा हो सकता है और यह स्थिति मोटापे का संकेत हो सकती है। पुरुषों के लिए गर्दन की माप 17 इंच और महिलाओं के लिए 16 इंच से अधिक नहीं होनी चाहिए। इससे अधिक होने पर ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया का जोखिम बढ़ जाता है।
  • ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया होने की संभावना उन लोगों में दोगुनी हो जाती है, जिन्हें रात में अक्सर नाक बंद होने की समस्या रहती है।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA)रोग का इलाज न होने पर कौन कौन सी स्वास्थ्य समस्याएं पैदा हो सकती हैं?

कार्डियो-वैस्क्युलर समस्याएं (Cardio – vascular problems) :- ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया के दौरान रक्त के ऑक्सीजन स्तर में अचानक कमी आना, ब्लड प्रेशर बढ़ना और कार्डियो-वैस्क्युलर सिस्टम पर दबाव बढ़ना सरीखी समस्याएं पैदा हो जाती हैं। इस रोग से ग्रस्त कई लोगों में उच्च रक्तचाप की समस्या होती है, जिससे हृदय संबंधी रोग होने की आशंका बढ़ जाती है। ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया जितना गंभीर होगा, कोरोनरी आर्टरी डिजीज, दिल का दौरा पड़ना, हृदय की धड़कन रुक जाना और स्ट्रोक होने का जोखिम उतना ही बढ़ जाता है।

दूसरों की नींद पूरी नहीं होना (Others have of sleep) :- : तेज खर्राटों के कारण आपके आसपास के लोगों को भी सही तरीके से आराम नहीं मिल पाता। इसका असर आपके संबंधों पर भी पड़ने लगता है।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA) रोग में कौन सी जांच होती है ?

स्लीप स्टडी या पॉलीसोम्नोग्राफी की जाती है। इसके अंतर्गत पल्स ऑक्सीमेट्री (ऑक्सीजन), मस्तिष्क की तरंगें (ईईजी), दिल की धड़कन (ईकेजी), सीने और आंखों की स्थिति का अध्ययन किया जाता है।

आधुनिक जांच प्रक्रिया: आधुनिक तकनीक की मदद से आप इस रोग से संबंधित परीक्षणों को अपने घर में करा सकते हैं ताकि आपको अस्पताल में रात बिताने की जरूरत न पड़े। घड़ी की तरह दिखने वाली इस डिवाइस को आपकी उंगलियों के पौरों और बाजुओं पर लगा दिया जाता है, जिससे आपकी सोने की स्थितियों और आंखों की हरकतों पर नजर रखी जा सके।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA) रोग का इलाज

-निरंतर हवा का सकारात्मक दबाव बने रहना (सीपीएपी): यह एक छोटा पोर्टेबल मैकेनिकल डिवाइस है। इस डिवाइस में एक पंखा लगा होता है, जो नींद के दौरान लगातार हवा देकर आपके सांस मार्ग को खुला रखता है।

-कुछ ऐसे प्लास्टिक डिवाइस होते हैं, जिन्हें मुंह में पहना जाता है। दिखने में ये ऑर्थोडॉन्टिक रिटेनर्स या स्पोर्ट माउथ गा‌र्ड्स की ही तरह होते हैं। ये ओरल डिवाइस सांस मार्ग को चिपकने से रोकते हैं।

-सर्जिकल इलाज के अंतर्गत नाक, तालू, जीभ, जबड़ा, गर्दन और कई अन्य जगहों की समस्याओं को दूर किया जाता है। सबसे लोकप्रिय सर्जरी लेजर प्रक्रिया है, जो खर्राटे भरने और सोते वक्त सांस की समस्या को दूर करने में सक्षम हैं।

ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA)का घरेलू उपचार

आप को कुछ खास बत्तों का ध्यान रखना होगा ताकि आप ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया Obstructive sleep apnea (OSA) रोग से छुटकारा पा सकें :- 

वजन कम :- आप अधिक वजन या मोटापे से ग्रस्त है, तो यह आपके लिए नुक्सानदायक है यदि आप अपना वजन कम केर लेते हैं तो आपको इस रोग से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है

  • व्यायाम करें :- आपको सुबह जल्दी उठ कर व्यायाम करना चाहिये जिस से आपकी एनर्जी खर्च होगी और आपको नार्मल नीद आएगी
  • शराब और नींद की गोलियों का सेवन ना करें ये भी आपकी नेचुरल नींद में खलल डालते हैं
  • सोने के तरीके में बदलाव करें ना तो ऊँचा तकिया लें और ना ही पेट के बल सोयें हमेशा पीठ के बल सोयें
  • आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिये वो आपको कोई ऐसा स्प्रे दे सकते हैं जो आपके नासिका तंत्र को खुला रखे ताकि आपकी नींद में खलल ना पड़े
  • सोने से पहले किसी भी तरह की कैफीन का सेवन ना करें चाय और कॉफ़ी में में कैफीन की मात्रा अधिक होती है जो की नींद भगाने के लिए है ना की नींद लेन के लिए
  • रात का खाना हल्का होना चाहिए. ताकि आपको रात में पानी की प्यास बार बार न लगे
  • सोने से 30 मिनट पहले 1 गिलास गरम ढूध अवश्य पियें इसकी गर्माहट आपकी मांसपेशियों को सोने से पहले आराम देती है.

नोट  :- समय पर बिस्तर पर लेट जाना चाहिये जल्दी आप तभी सो सकते हैं जब आप चिंतामुक्त हो  दूसरे शब्दों में, सोने के लिए आपके केंद्रीय तंत्रिका तंत्र का शांत होना आवश्यक है. इस काम के लिए सबसे जरूरी तत्व मैग्नीशियम है. नाशपति और नट दोनों में ही मैग्नीशियम बहुत होता है.

Loading...
loading...

Related posts

2 thoughts on “ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एप्निया (OSA) के लक्षण, कारण और घरेलू उपचार

  1. bahut hi badiya jankari hai

Comments are closed.