Search

अल्सर के लक्षण (The Symptoms of Ulcers)

अल्सर के लक्षण

अल्सर के लक्षण इतनी जल्दी तो नहीं पता चलते लेकिन यदि हम अपने खान पान और साफ़ सफाई का ध्यान रखे तो हम अल्सर जैसी बिमारियों से बच सकते हैं और जैसे ही आपको अल्सर के लक्षण का पता लगे तुरंत किसी डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिये यदि ऐसा नहीं करते है तो यह आतंरिक आंत का कैंसर का रूप धारण कर लेते हैं.

आज के समय में हम बिमारियों के प्रति जितने जागरूक है उतने शायद पहले नहीं थे लेकिन आजकल की जीवनशैली और खान-पान में बदलाव के कारण युवक और युवतियों में पेट के अल्सर की बीमारी काफी तेजी से  बढ़ती जा रही है. अल्सर को हम एक भयानक बीमारी तो नहीं कह सकते लेकिन यदि कभी-कभी व्यक्ति के लिए घातक भी साबित हो जाती है. सामान्य भाषा में इसे पेट के छाले व घाव कहा जाता है.

loading...

अल्सर शरीर की आतंरिक त्वचा या जहाँ से छोटी आंत शुरु होती है वहां म्यूकस झिल्ली पर बना एक घाव होता है. इसे पेप्टिक अल्सर को गैस्ट्रिक अल्सर के नाम से भी जाना जाता है. माना जाता है की अल्सर आहार और तनाव या फिर पेट में अम्ल की अतिरिक्त मात्रा इकट्ठा होने के कारण होता है

लेकिन कभी कभी यह हेलिकोबैक्टर पाइलोरी नाम के एक जीवाणु के संक्रमण से भी होता है. अनेक बार अल्सर रोग का पता नहीं चलता इसलिए यह शरीर के अनेक हिस्सों में फैल जाता है. आज हम अल्सर के लक्षण पर चर्चा करते हैं

अल्सर के लक्षण जो सामन्यतय नज़र आते  हैं-

  • पेट के मध्यम और ऊपरी भाग में दर्द और जलन होना। यह दर्द अक्सर खाना खाने के दौरान और रात में होता है।
  • रात में सोते समय अचानक मुह से हरा पानी निकलना
  • सारा दिन डकार आना
  • कोई भी गरम चीज जैसे चाय या कॉफ़ी पना के कुछ समय बाद ऐसा लगना जैसे वो छाती पर कही अटक गयी हो
  • पेट में सूजन
  • सीने में जलन
  • मतली या उलटी
  • भूख कम लगना।
  • गैस संबंधी परेशानी का होना.
  • आंतों में जलन की शिकायत होना.
  • कभी कभी पेट में जखम जैसा एहसास होना और उसमे दर्द होना
  • पेप्टिक अल्सर से पीडि़त रोगी को रूक-रूक कर पेट में दर्द की भी शिकायत हो सकती है। यह दर्द रोगी को कुछ घंटों के अंतराल पर होता रहता है।

अल्सर के लक्षण जो गंभीर समस्या की और इशारा करते हैं 

  • गाढ़े या काले रंग का मल होना (मल में खून भी नज़र आ सकता है)
  • खून की उल्टी होना।
  • वजन कम होना।
  • पेट के ऊपरी हिस्से के मध्य में गंभीर दर्द होना।
  • खांसी के समय बलगम के साथ कभी कभी खून आना

समय पर अल्सर का उपचार करने पर यह ठीक हो जाता है और रोगी को उसके लक्षणों से राहत मिलती है। लेकिन यदि इसका समय पर इलाज न हो तो यह कई और गंभीर समस्याओं को जन्म देता है।

अल्सर (Alser) के आयुर्वेदिक और औषधीय उपचार

टिप्स छोटे छोटे जो आपको रखेंगे तंदरुस्त

जैसे:-  

  • आतंरिक रक्तस्त्राव।
  • पेट की दीवारों में छिद्र होना।
  • सूजन और घाव के कारण पेट और छोटी आंत के बीच का रास्ता ब्लॉक हो जाता है. जिससे पाचन तंत्र में गड़बड़ी आ जाती है।

यदि किसी भी व्यक्ति में अल्सर के लक्षण नज़र आये तो उसे तुरंत डॉक्टर के पास जाकर अपना चेकअप करवाना चाहिए, नहीं तो अल्सर के लक्षण को अनदेखा करने का मतलब  पेट या अग्नाशय के कैंसर को बुलावा देने जैसा है ।

Loading...
loading...

Related posts

One thought on “अल्सर के लक्षण (The Symptoms of Ulcers)

  1. Wow that was unusual. I just wrote an incredibly long comment but after I clicked submit my comment didn’t show up. Grrrr… well I’m not writing all that over again. Anyhow, just wanted to say excellent blog!

Comments are closed.